सालों पुरानी रामलीलाओं को प्रोत्साहन देगी उत्तराखंड सरकार

देहरादून।… उत्तराखंड की विरासत मानी जाने वाली सालों पुरानी रामलीलाओं को राज्य सरकार 50 हजार से लेकर एक लाख रुपये तक की प्रोत्साहन राशि देगी। संस्कृति विभाग की एक बैठक में मुख्यमंत्री हरीश रावत ने मंगलवार को अस्थायी राजधानी देहरादून में कहा कि रामलीलाएं हमारी संस्कृति एवं परम्परा का अभिन्न हिस्सा हैं और उन्हें प्रोत्साहित करने के लिए एक कार्ययोजना बनाई जाएगी।

इस संबंध में उन्होंने कहा कि 100 से ज्यादा सालों से चली आ रही रामलीलाओं को एक लाख रुपये, 50-100 साल पुरानी रामलीलाओं को 75 हजार रुपये और 25 से 50 साल पुरानी रामलीलाओं को 50 हजार रुपये की प्रोत्साहन राशि दी जाएगी।

देहरादून में जारी एक सरकारी विज्ञप्ति में मुख्यमंत्री ने कहा कि इस साल राज्य स्थापना के 15 साल पूरे होने के मौके पर आयोजित होने वाले कार्यक्रम उत्तराखंड की संस्कृति तथा पारंपरिक खान पान को समर्पित रहेंगे तथा केवल देहरादून तक सीमित न रहकर अन्य स्थानों पर भी आयोजित होंगे।

उत्तराखंड के व्यंजनों पर आधारित प्रतियोगिताएं कराने के निर्देश देते हुए रावत ने कहा कि छह नवंबर को अल्मोड़ा के जागेश्वर में, सात नवम्बर को टिहरी में और आठ नवम्बर को ये आयोजन देहरादून में होंगे, जबकि राज्य स्थापना दिवस पर नौ नवम्बर को देहरादून में आयोजित होने वाले मुख्य कार्यक्रम में इन प्रतियोगिताओं के विजेताओं को सम्मानित किया जाएगा।