नई दिल्ली।… दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने अपने खाद्य मंत्री असीम अहमद खान को एक बिल्डर से कथित तौर पर छह लाख रुपये रिश्वत मांगने के आरोपों में शुक्रवार को बर्खास्त कर दिया। केजरीवाल ने दिल्ली में अचानक बुलाए गए एक संवाददाता सम्मेलन में बर्खास्तगी की घोषणा की। इस मौके पर उन्होंने असीम अहमद खान और बिल्डर व एक बिचौलिए के बीच हुई बातचीत का टेप भी बजाया।

केजरीवाल ने इस मौके पर कहा कि वह भ्रष्टाचार बर्दाश्त नहीं करेंगे। आम आदमी पार्टी (आप) के नेता ने कहा, ‘हम कोई भी भ्रष्टाचार बर्दाश्त नहीं करेंगे, चाहे इसमें हमारा मंत्री या विधायक ही क्यों न शामिल हो।’ केजरीवाल ने कहा, ‘मैं किसी भी मंत्री, विधायक, यहां तक कि अपने बेटे या मनीष को भी नहीं छोड़ूंगा। जो भी भ्रष्टाचार में लिप्त होगा, उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।’

केजरीवाल ने संवाददाता सम्मेलन में मौजूद उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया से कहा कि यदि वह (केजरीवाल) स्वयं भ्रष्टाचार में लिप्त पाए जाएं तो उन्हें किसी भी हाल में न छोड़ा जाए। मुख्यमंत्री ने कहा, ‘हमें यदि सबसे बड़ी कुर्बानी देनी पड़ी तो भी हम भ्रष्टाचार के साथ समझौता नहीं करेंगे। हम हर किसी पर नजर रखे हुए हैं।’

उन्होंने कहा कि मामला केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) को सौंपा जा रहा है। बाद में केजरीवाल ले ट्वीट किया कि मामला जांच एजेंसी के पास भेज दिया गया।

बर्खास्तगी के चंद घंटे बाद खान ने कहा कि वह चकित हैं। उन्होंने संवाददाताओं से कहा, ‘मैं चकित हूं। मुझसे इस्तीफे के लिए कहा गया और मैंने इस्तीफा दे दिया। इसके पीछे कोई साजिश है। मैं इसे बेनकाब करूंगा।’ केजरीवाल ने यह घोषणा भी की कि पार्टी विधायक इमरान हुसैन खान की जगह लेंगे।

केजरीवाल ने कहा, ‘मुझे नहीं लगता कि आजतक इस तरह की कार्रवाई किसी ने की होगी। हमने ऐसा किया है। अब बीजेपी को चाहिए कि वह शिवराज सिंह चौहान और वसुंधरा राजे को बर्खास्त करे।’

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे क्रमश: व्यापमं घोटाले और पूर्व आईपीएल प्रमुख ललित मोदी की मदद करने के मामले को लेकर विवादों में हैं।

केजरीवाल ने अपने संवादाता सम्मेलन की शुरुआत में कहा कि AAP का जन्म भ्रष्टाचार विरोधी आंदोलन से हुआ है। ‘हमें चुनाव लड़ने के लिए मजबूर किया गया। जनता ने हमारी ईमानदार राजनीति और भ्रष्टाचार विरोधी हमारे रुख के कारण हम पर भरोसा किया।’

केजरीवाल ने कहा, ‘हमने एक भ्रष्टाचारमुक्त भारत का सपना देखा था। और हमने कहा था कि हम किसी भी कीमत पर भ्रष्टाचार के साथ समझौता नहीं करेंगे।’

मीडिया को अब भी भ्रम में रखते हुए केजरीवाल ने कहा कि हम एक ठोस कदम उठाने जा रहे हैं, और उसके बाद उन्होंने खान की बर्खास्तगी की घोषणा की। उन्होंने कहा कि गुरुवार को उन्हें एक ऑडियो टेप दिया गया, जिसमें यह शिकायत साबित होती है कि मंत्री ने पुरानी दिल्ली के अपने विधानसभा क्षेत्र मटिया महल में अवैध निर्माण की अनुमति देने के लिए बिल्डर से छह लाख रुपये मांगे थे।

केजरीवाल ने कहा, ‘प्रथम दृष्टया यह गंभीर मामला लगता है… हम इसे बर्दाश्त नहीं कर सकते।’ मीडिया को जारी आडियो टेप में खान को दूसरी तरफ के व्यक्ति से यह कहते सुना जा सकता है कि उन्हें देर हो गई, क्योंकि एक बैठक में वह चार घंटे फंसे रह गए। बातचीत हिंदी में थी।

अज्ञात व्यक्ति को फोन पर यह कहते सुना जा सकता है, ‘मैं वास्तव में इस बात को लेकर चिंतित हूं कि इसे रखूं कहां।’ खान फिर उस व्यक्ति से कहते हैं, ’10-15 मिनट में मोती महल के सामने मिलो।’ अज्ञात व्यक्ति पूछता है, ‘यह छह है, क्या मैं छह तारीख दे दूं।’ खान जवाब देते हैं, ‘वहां इकबाल से मिलो और दे दो।’

एक अन्य बातचीत में खान को धन के बारे में मोल-तोल करते सुना जा सकता है। खान दूसरे ऐसे मंत्री हैं, जिन्हें अपमानित होकर आप सरकार से हटना पड़ा है। तत्कालीन कानून मंत्री जितेंद्र सिंह तोमर को उनकी कथित फर्जी डिग्री के मामले में गिरफ्तारी के बाद जून में इस्तीफा देना पड़ा था।

केजरीवाल ने कहा, ‘यदि हम अपने मंत्री को बर्खास्त कर सकते हैं, तो हम किसी के भी खिलाफ कार्रवाई कर सकते हैं।’ दिल्ली विधानसभा में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) एक मात्र विपक्षी दल है, जिसके पास 70 सदस्यीय विधानसभा में मात्र तीन विधायक हैं। जबकि आप के पास 67 विधायक हैं।

बीजेपी नेता रविशंकर प्रसाद ने कहा, ‘कभी केजरीवाल (दिल्ली के उपराज्यपाल) नजीब जंग के साथ लड़ते हैं, कभी प्रधानमंत्री (नरेंद्र मोदी) से, कभी (गृहमंत्री) राजनाथ सिंह से, और कभी अपनी पार्टी के लोगों से।’ उन्होंने कहा, ‘लड़ने की इस कहानी को उन्हीं के ऊपर छोड़ देना चाहिए।’

कांग्रेस प्रवक्ता आरपीएन सिंह ने कहा, ‘यह स्थिति तब है, जब दिल्ली में लोकपाल नहीं है। कल्पना कीजिए कि यदि कोई लोकपाल होता तो पूरा मंत्रिमंडल इस्तीफा दे चुका होता।’ पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने कहा कि केजरीवाल इसके जरिए प्रचार पाना चाहते हैं।