उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिले में मौसम खुलते ही इन दिनों पांचवे धाम के रूप में प्रसिद्द श्री हेमकुंड साहिब में श्रद्धालुओं की संख्या मे लगातार इजाफा हो रहा है। इसके चलते यहां न सिर्फ चहल-पहल बढ़ गई है, बल्कि स्थानीय लोगों का रोजगार भी खूब मिल रहा है।

सिक्खों के पवित्र तीर्थ स्थल श्री हेमकुंड साहिब दरबार में जैसे-जैसे धाम के कपाट बंद होने की तारीख 10 अक्टूबर नजदीक आ रही है वैसे-वैसे देश-विदेश के श्रद्धालु भारी संख्या में पहुंच रहे हैं।

1 जून को हेमकुंड साहिब और लोकपाल लक्ष्मण मंदिर के कपाट खुलने के बाद से अब तक धाम में एक लाख सत्तर हजार से ज्यादा श्रद्दालु पहुंच चुके हैं। धाम में पहुंचने वाले श्रद्दालु जहां पवित्र हेमकुंड सरोवर में स्नान कर मत्था टेक रहे है। वहीं वापसी के दौरान विश्व प्रसिद्ध फूलों की घाटी जाना भी नहीं भूल रहे हैं।

आपदा के बाद से अब धाम में लगातर बढ़ रही श्रद्दालुओं की संख्या से जहां गुरुद्वारा कमेटी में भी उत्साह का महौल है, वहीं स्थानीय व्यापारियों के चेहरे भी खिले हुए हैं।

गुरुद्वारा प्रबंध समिति के प्रंबधक सेवा सिंह का कहना है कि आपदा के बाद से जैसे हालात बिगड़ गए थे उस लिहाज से इस साल श्रद्दालुओं की संख्यां में भारी इजाफा हुआ है और कपाट बंद होने की तारीख तक यह संख्या दो लाख को भी पार कर सकती है।