आज हम सब जानते हैं कि मच्छर के काटने से मलेरिया फैलता है। अब चीन की वैज्ञानिक ने इसकी दवा भी ढूंढ ली है और उन्हें इसके लिए नोबेल पुरस्कार से नवाजा जाएगा। लेकिन इस तथ्य की खोज की थी महान ब्रिटिश वैज्ञानिक रोनाल्ड रॉस ने, जिनका जन्म 13 मई 1857 को हुआ था। क्या आप जानते हैं कि रोनाल्ड रॉस का जन्म उत्तराखंड में कुमाऊं की वादियों में हुआ था।

जी हां मलेरिया के कारणों की खोज करने के लिए नोबेल पुरस्कार विजेता रोनाल्ड रॉस का जन्म अल्मोडा के ऐतिहासिक थॉमसन हाउस में हुआ था। उन्होंने 1897-98 में सबसे पहले यह खोज की थी कि मलेरिया मच्छर के काटने से फैलता है। इसके लिए उन्हें नोबल पुरस्कार से नवाजा गया था। अब करीब सवा सौ साल बाद मलेरिया की दवा खोजने पर चीन की प्रो. यूयू को नोबल पुरस्कार दिए जाने का ऐलान हुआ है।

Sir-Ronald-Ross

मलेरिया के कारणों की खोज करने वाले महान वैज्ञानिक रोनाल्ड रॉस के के पिता ईस्ट इंडिया कंपनी में अफसर थे। उस दौर में उनके पिता अल्मोड़ा के थॉमसन हाउस में रहते थे। रोनाल्ड रॉस 1881 में भारतीय चिकित्सा सेवा में चयनित हुए। उन दिनों मलेरिया के बुखार से महामारी फैल रही थी और मलेरिया के कारणों का कुछ पता नहीं लग पा रहा था।

रोनाल्ड ने 1892 में मलेरिया को लेकर शोध शुरू किया। फिर 1897-98 में यह साबित करने में सफल रहे कि मलेरिया एनाफिलीज मच्छर के काटने से होता है। इस खोज के लिए उन्हें नोबल पुरस्कार से सम्मानित किया गया।