बद्रीनाथ धाम

देहरादून।… उत्तराखंड सरकार ने यात्रियों को जोशीमठ से लेकर बद्रीनाथ धाम तक की यात्रा से संबंधित सभी प्रकार की जानकारी उपलब्ध कराने के लिए एक एंड्रॉयड आधारित मोबाइल ऐप जारी किया है।

देहरादून में सोमवार देर शाम ‘शुभ बद्रीनाथ यात्रा’ मोबाइल ऐप को मुख्यमंत्री हरीश रावत ने जारी किया। चमोली जिला प्रशासन द्वारा बनाए गए इस मोबाइल ऐप के जरिए यात्रियों को जोशीमठ से लेकर बद्रीनाथ धाम तक की यात्रा से संबंधित सारी जानकारी उपलब्ध है। अगर यात्री ऑनलाइन है तो यह मोबाइल ऐप उसकी लोकेशन अपने आप ले लेगा लेकिन ऑनलाइन न होने की स्थिति में भी बहुत सी महत्वपूर्ण जानकारियां यात्रियों को ऑफ लाईन भी उपलब्ध रहेंगी।

गढ़वाल मंडलायुक्त चंद्र सिंह नपलच्याल ने बताया कि मोबाइल एप में एटीएम, पेट्रोल पम्प, होटल, रेस्टोरेंट, सार्वजनिक पेयजल, शौचालय, पार्किंग, बस स्टैंड, टैक्सी स्टैंड, वर्कशाप आदि की जानकारी सहित यात्री को उसकी वर्तमान लोकेशन से बद्रीनाथ धाम की दूरी तथा वहां के फोन नम्बर भी मिल जाएंगे।

Shubhbadrinath-app

उन्होंने बताया कि यह ऐप उपरोक्त सभी सुविधाएं गूगल मैप के जरिए भी प्रदर्शित करेगा तथा आपदा प्रबंधन में भी यह बहुत सहायक रहेगा। इस ऐप में मार्ग बंद होने या भूस्खलन होने पर वैकल्पिक मार्ग की जानकारी तथा राजमार्ग पर स्थित प्रमुख गांवों, राशन की दुकानों की जानकारी भी उपलब्ध रहेगी।

नपलच्याल ने कहा कि मोबाइल-ऐप के ‘अपडेट’ विकल्प के माध्यम से यात्री को मौसम और रास्तों की नवीनतम स्थिति से भी अवगत कराया जाएगा। इसमें उत्तराखंड के व्यंजनों की जानकारी भी दी गई है। इस ऐप को बनाने में युवा अधिकारी ज्वॉइंट मजिस्ट्रेट मंगेश का अहम योगदान रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि पेशेवर विशेषज्ञों का सहयोग लेकर इस ऐप को और अधिक उपयोगी बनाया जा सकता है। उन्होंने कहा कि फिलहाल पायलट प्रोजेक्ट के तौर बद्रीनाथ के लिए प्रारम्भ किए गए इस मोबाइल ऐप को चारों धाम तथा बाद में अन्य प्रमुख पर्यटन स्थलों तक भी विस्तारित किया जा सकता है।

रावत ने इंटरनेट सेवाओं में सुधार लाने की जरूरत पर बल देते हुए कहा कि मैदानी क्षेत्रों में वाईफाई के लिए ऑप्टिकल फाइबर कारगर है परंतु पर्वतीय क्षेत्रों में इंटरनेट सेटेलाईट के माध्यम से ही सम्भव है और इसके लिए केंद्र सरकार से बात की जा रही है।