उत्तराखंड क्रांति दल (यूकेडी) नेता दिवाकर भट्ट ने त्रिवेंद्र पंवार को भस्मासुर की संज्ञा दी है। दिवाकर भट्ट के अनुसार उनकी सबसे बड़ी भूल थी कि उन्होंने त्रिवेंद्र सिंह पंवार को यूकेडी के अध्यक्ष पद की कमान सौंपी।

कोटद्वार के दौरे पर आए दिवाकर भट्ट ने कहा कि यूकेडी जिस दौर से गुजर रही है, उसके लिए काशी सिंह ऐरी और त्रिवेंद्र सिंह पंवार ही जिम्मेदार हैं, क्योंकि इन दोनों लोगों के अहं हमेशा एक-दूसरे से टकराते रहे हैं।

खुद को भगवान शिव और त्रिवेंद्र सिंह पंवार को भस्मासुर करार देते हुऐ भट्ट ने कहा कि अध्यक्ष बनने के बाद त्रिवेंद्र सिंह पंवार ने जिसके भी सिर पर हाथ रखा, उसको उन्होंने भस्म कर दिया। दिवाकर भट्ट ने कहा उन्होंने मुझे भी भस्म करने की कोशिश की।

आगामी विधानसभा चुनावों से पहले बीजेपी का दामन थामने का इशारा करते हुऐ यूकेडी नेता दिवाकर भट्ट ने कहा कि जब क्षेत्रीय पार्टी यूकेडी का अस्तित्व ही खत्म हो गया है तो फिर उसको लेकर ज्यादा सवाल जबाव ठीक नहीं है।

खुद को यूकेडी का सच्चा सिपाही करार देते हुऐ दिवाकर भट्ट ने कहा कि यदि फिर से यूकेडी के सभी छत्रप एक हो जाएं तो फिर से यूकेडी अपने पुराने वजूद में लौट सकती है।