धार्मिक नगरी हरिद्वार में शनिवार देर रात कोतवाली ज्वालापुर क्षेत्र के शास्त्री नगर इलाके में सरे बाजार तीन युवकों को एक दुकानदार ने अपने चार साथियों के साथ चाकुओं से गोद दिया। इस हमले में दो की मौके पर ही मौत हो गई और तीसरा गंभीर रूप से घायल हो गया।

घायल युवक को गंभीर हालत में जौलीग्रांट अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां उसकी हालत गंभीर बनी हुई है। मरने वालों में शामिल कार्तिक बीजेपी का मंडल उपाध्यक्ष है। इस हत्याकांड से गुस्साए लोगों ने पहले जिला अस्पताल और फिर कोतवाली का घेराव कर जमकर हंगामा किया।

पुलिस ने आरोपी हत्यारों के पिता को गिरफ्तार कर लिया है, जबकि फरार आरोपियों को सुबह तक गिरफ्तार करने का अश्वासन देकर गुस्साए लोगों को शांत कर किया। पीड़ित परिजनों का आरोप है कि शास्त्री नगर में किसी बात को लेकर मृतकों का आशीष मेहता से कहासुनी हो गई थी।

इसके बाद उसने अपने भाई चीनू और अन्य साथियों के साथ मिलकर तीनों पर चाकुओं से कई वार किए, जिसमें दो की मौके पर ही मौत हो गई और तीसरा गंभीर रूप से घायल हो गया।

इस घटना के बाद हरकत में आई पुलिस ने हत्या के आरोपियों के पिता को गिरफ्तार कर लिया है, जबकि हत्यारे अब भी पुलिस की गिरफ्त से दूर हैं। एसपी सिटी नवनीत सिंह भुल्लर का कहना है कि आपसी झगड़े में दो युवकों की मौत हुई है। कुछ लोगों को नामजद किया गया है, जिनमें से एक की गिरफ्तारी हो गई है। हत्या के कारणों का अभी तक कुछ पता नहीं चल पाया है।

सरे राह हुए इस दोहरे हत्याकांड के बाद इस मामले को लेकर राजनीति होनी भी लाजमी थी, तो मामले को भुनाने सत्ता और विपक्ष दोनों के नेता कोतवाली पहुंचे। नगर विधायक मदन कौशिक इस हत्याकांड को बड़ी घटना बता रहे हैं। उनका कहना है कि ये पुलिस की नाकामी है।

उन्होंने कहा कि आरोपियों को गिरफ्तार करना तो दूर पुलिस ने घटना के चार घंटे बाद घायल को जौलीग्रांट अस्पताल भिजवाया और वहां भी आईसीयू बेड खाली नहीं है। उन्होंने चेतावनी दी की अगर सुबह तक आरोपियों को गिरफ्तार नहीं किया जाता तो वो लोकतांत्रिक हथियार का प्रयोग करेंगे, जिसकी जिम्मेदारी पुलिस की होगी।

वहीं पूर्व पालिकाध्यक्ष सतपाल ब्रह्मचारी का कहना है कि मुख्यमंत्री के सख्त निर्देश आ गए हैं कि आरोपियों को जल्द से जल्द गिरफ्तार किया जाए और पुलिस अपनी जिम्मेदारी को पूरी तत्परता से निभा रही है।

किसी भी बवाल के अंदेशे से पुलिस ने आरोपियों के घर और मोहल्ले में भारी संख्या में पुलिस बल तैनात कर दिया है। पुलिस किसी भी तरह के बवाल को झेलने के लिए भी तैयार दिख रही है। देखना ये होगा कि आखिर कब तक पुलिस आरोपियों को गिरफ्तार कर सलाखों के पीछे पहुंचाने में कामयाब हो पाती है।