एडवेंचर स्पोर्ट्स में है दिलचस्पी और काम की तलाश में हैं तो ये खबर आपके लिए ही है

अगर आप उत्तराखंड के निवासी हैं और 40 साल से कम उम्र के हैं तो भी फिक्र मत कीजिए। बस दिल थाम लीजिए और चले जाइए ट्रैकिंग, कयाकिंग जैसी साहसिक गतिविधियों में शामिल होने के लिए। पर्यटन विभाग कुछ इसी तर्ज पर फ्री ट्रेनिंग देने जा रहा है।

साहसिक पर्यटन से युवाओं को जोड़ने के लिए उत्तराखंड में नई कवायद होने जा रही है। तकरीबन 5 हजार युवाओं को पर्यटन विभाग की विशेष स्कीम के तहत ट्रेनिंग देने की तैयारी की जा रही है। ‘मेरे युवा-मेरा उत्तराखंड’ नाम से ये स्कीम शुरू की जा रही है।

पर्यटन विभाग ने पहले वित्तीय वर्ष में तकरीबन 5 हजार युवाओं को कयाकिंग, पैराग्लाइडिंग, माउन्टेन बाइकिंग समेत कई साहसिक गतिविधियों से जुड़ी ट्रेनिंग देने का खाका तैयार किया है। बजटीय प्रावधान के बाद विभागीय मंत्री ने भी फाइल पर दस्तखत कर दिए हैं।

पर्यटन मंत्री दिनेश धनै का कहना है कि मुख्यमंत्री हरीश रावत देवभूमि के युवाओं को खास तवज्जो देना चाहते हैं। साहसिक पर्यटन के क्षेत्र में उन्हें जोड़ने के लिए 14 साल से लेकर 45 साल तक के युवाओं को इस स्कीम के तहत ट्रेनिंग दी जाएगी।

वहीं दूसरी ओर राफ्टिंग जैसी गतिविधियों का संचालन करने वाले जानकार भी मानते हैं कि युवाओं को ट्रेनिंग देने से लाभ मिलेगा। एसोसिएशन की पदाधिकारी किरन टोडरिया कहती हैं कि सरकार का ये कदम सराहनीय है।