अमृता रावत की फाइल फोटो

कॉर्बेट नगरी रामनगर से कांग्रेस विधायक और अब बीजेपी नेता सतपाल महाराज की पत्नी अमृता रावत ने बीजेपी में शामिल होने पर पत्ते नहीं खोले हैं। हालांकि उन्होंने इशारों-इशारों में जरूर कह दिया कि कम से कम 2017 के विधानसभा चुनाव तक तो वो कांग्रेस में ही रहेंगी। उन्होंने कहा कि फिलहाल कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में जाने का उनका कोई इरादा नहीं है।

विधायक अमृता रावत सोमवार को रामनगर पहुंचीं। यहां उन्होंने अस्पताल का औचक निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान उन्हें कोई खामी नजर नहीं आई और वो अस्पताल के क्रिया कलापों से संतुष्ट भी दिखी।

इस दौरान उन्होंने अस्पताल में ऑटो एनेलाइजर के लिए विधायक निधि से पांच लाख रुपये देने की घोषणा की। वहीं जब उनसे पूछा गया कि वो कांग्रेस छोड़कर बीजेजी का दामन कब थामेंगी तो उन्होंने इशारों ही इशारों में कहा कि कम से कम 2017 के चुनाव से पहले तो वो बीजेपी का दामन नहीं थामने जा रही हैं।

उन्होंने कहा कि एक साल की ढाई करोड़ की विधायक निधि मिल रही है, जिससे वो अपने क्षेत्र में विकास कार्य करा रही हैं, ऐसे में वो क्यों बीजेपी में जाएंगी। इससे पहले उन्होंने पापडी में 20,14,000 की लागत से बने स्कूल भवन का लोकार्पण किया।

उन्होंने स्कूल में हैंडपंप और टाइल्स लगवाने के लिए विधायक निधि से छह लाख रुपये की घोषणा भी की। इसके अलावा उन्होंने छोई गांव में ट्यूबवेल का भी उद्घाटन किया।