उत्तराखंड में मंगलवार दोपहर के बाद रात में एक बार फिर भूकंप के झटके महसूस किए गए। पिथौरागढ़ में दोपहर में आए भूकंप के बाद रात को यहां के धारचूला, मुनस्यारी में भूकंप के कारण फिर धरती हिलने लगी। भूकंप की तीव्रता रिक्टर स्केल में 3.5 मापी गई।

हालांकि भूकंप की तीव्रता दोपहर के मुकाबले रात में हल्की रही थी, वेकिन झटके महसूस होने के बाद डर के कारण लोग घरों से बाहर निकल आए। अब भी लोगों में इसे लेकर डर खत्म नहीं हुआ है।

पिथौरागढ़ जिले में मंगलवार दोपहर 2 बजकर 56 मिनट पर भूकंप के झटके महसूस किए गए थे। रिएक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता 4.5 दर्ज की गई है। पिथैरागढ़ के धारचूला, गंगोलीहाट, मुनस्यारी में भूकंप के तेज झटके महसूस किए गए। भूकंप की तीव्रता रिक्टर स्केल पर 4.5 से अधिक दर्ज की गई।

भूकंप के झटके इतने तेज थे कि लोग दहशत के कारण घरों से बाहर निकल आए। करीब तीस सेकंड तक भूकंप के झटके महसूस होते रहे। भूकंप के झटके बंद होने के बाद भी लोग इतने डरे हुए थे कि काफी वक्त तक लोग घरों के बाहर ही रहे। घरों के अंदर जाने को लोग तैयार नहीं दिखे।

गौरतलब है कि कुछ महीने पहले ही नेपाल में भूकंप ने भारी तबाही मचाई थी। पिथौरागढ़ नेपाल की सीमा से लगा हुआ जिला है। भारत-नेपाल का ये पूरा क्षेत्र भूकंप जोन में आता है और इसलिए भी लोगों में काफी दहशत देखी गई। अब तक जान माल के किसी नुकसान की खबर नहीं है।