साहित्य अकादमी पुरस्कार पाने वाले प्रसिद्ध हिंदी कवि वीरेन डंगवाल का निधन

बरेली।… हिंदी के प्रसिद्ध कवि और वरिष्ठ पत्रकार वीरेन डंगवाल का सोमवार सुबह बरेली में निधन हो गया। वह 68 साल के थे। साहित्य अकादमी पुरस्कार सहित कई पुरस्कारों से सम्मानित कवि इधर कुछ दिनों से बीमार थे।

डंगवाल के निधन से हिंदी साहित्य जगत में शोक की लहर है। पांच अगस्त 1947 को उत्तराखंड के टिहरी गढ़वाल में जन्मे डंगवाल का बरेली के एक अस्पताल में इलाज चल रहा था। सोमवार तड़के करीब चार बजे उन्होंने अंतिम सांस ली।

हिंदी दैनिक ‘अमर उजाला’ के संपादक रहे वीरेन डंगवाल को वर्ष 2004 का साहित्य अकादमी पुरस्कार मिला था। उनका पहला कविता संग्रह 43 साल की उम्र में ‘इसी दुनिया में’ शीर्षक से प्रकाशित हुआ। इस पर उन्हें रघुवीर सहाय स्मृति पुरस्कार तथा श्रीकांत वर्मा स्मृति पुरस्कार मिला था।

साल 2002 में उनका दूसरा कविता संग्रह ‘दुष्चक्र में सृष्टा’ प्रकाशित हुआ, जिस पर 2004 में उन्हें साहित्य अकादमी पुरस्कार मिला। बरेली कालेज में हिंदी के प्राध्यापक रहे डंगवाल ने कई पत्र-पत्रिकाओं का संपादन कार्य भी किया। उन्होंने पाब्लो नेरूदा, बर्तोल्त ब्रेख्त और नाजिम हिकमत जैसे प्रसिद्ध साहित्यकारों की रचनाओं का अनुवाद किया है।

डंगवाल की कुछ कविताएं इतनी चर्चित हुईं कि पोस्टर के रूप में काफी उपयोग किया गया। उनके परिवार में पत्नी रीता डंगवाल, बेटे प्रफुल्ल और प्रशांत हैं।

वीरेन डंगवालजी, श्रद्धांजलि!
सन् 2004 में साहित्य अकादमी पुरस्कार पाने वाले आदरणीय कवि वीरेन डंगवालजी आजादी मिलने के ठीक 10 दिन पहले पैदा हुए थे। उनके पिता स्वर्गीय रघुनंदन प्रसाद डंगवाल उत्तर प्रदेश सरकार में अधिकारी थे। डंगवाल की रुचि कविताओं, कहानियों दोनों में रही। उन्होंने इलाहाबाद विश्वविद्यालय से 1968 में एमए और उसके बाद डी-फिल की डिग्री प्राप्त की।

टिहरी गढ़वाल (उत्तराखंड) के डंगवालजी ने 22 साल की उम्र में पहली रचना, ‘एक कविता’, लिखी थी। फिर देश की तमाम साहित्यिक पत्र-पत्रिकाओं में वह लगातार छपते रहे। उन्होंने पाब्लो नेरूदा, बटरेल्ट ब्रेख्त, वास्को पोपा, मीरोस्लाव होलुब, तदेऊश रोजेविच और नाजि़म हिकमत की रचाओं की अपनी विशिष्ट शैली में कुछ दुर्लभ अनुवाद भी किए। उनकी कविताओं का बांग्ला, मराठी, पंजाबी, अंग्रेजी, मलयालम और उड़िया जैसी भाषाओं में अनुवाद हुआ।

डंगवालजी का पहला कविता संग्रह 43 वर्ष की उम्र में आया। ‘इसी दुनिया में’ नाम के संकलन को रघुवीर सहाय स्मृति पुरस्कार (1992) और श्रीकांत वर्मा स्मृति पुरस्कार (1993) से नवाजा गया। दूसरा संकलन ‘दुष्चक्र में सृष्टा’ 2002 में आया और इसी वर्ष उन्हें ‘शमशेर सम्मान’ भी दिया गया। दूसरे ही संकलन के लिए उन्हें 2004 का साहित्य अकादमी पुरस्कार भी दिया गया। उन्हें हिंदी कविता की नई पीढ़ी के सबसे चहेता और आदर्श कवियों में माना जाता है।

वीरेन शौकिया पत्रकारिता करते रहे और लंबे समय तक ‘अमर उजाला’ के ग्रुप सलाहकार और बरेली के स्थानीय संपादक रहे। श्रद्धेय डंगवालजी को महाराष्ट्र राज्य हिंदी साहित्य अकादमी की ओर से भावभीनी श्रद्धांजलि। इनके निधन से हिंदी साहित्य को अपूरणीय क्षति हुई है।