नई दिल्ली।… प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को न्यूयार्क में निवेशकों को भारत में विनिर्माण करने के लिए आमंत्रित करते हुए कहा कि वर्तमान वैश्विक संकट के दिनों में भी भारत तेजी से विकास कर रहा है, जहां निवेशकों के लिए अकूट अवसर है।

न्यूयार्क में वित्तीय क्षेत्र के मुख्य कार्यकारी अधिकारियों के गोलमेज सम्मेलन में प्रधानमंत्री ने कहा, ‘गत वर्ष हमारी विकास दर 7.3 फीसदी रही थी। प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) में 40 फीसदी वृद्धि दर्ज की गई है।’ उन्होंने कहा कि अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ), विश्व बैंक और मूडीज जैसी अंतरराष्ट्रीय रेटिंग एजेंसी की यह राय बनी हुई है कि भारत में आर्थिक माहौल और बेहतर होगा।

गोलमेज में शामिल मुख्य कार्यकारी अधिकारियों में शामिल थे जेपी मोर्गन के जैमी डिमोन, ब्लैकस्टोन के स्टीव स्क्वोर्जमैन, वारबर्ग पिनकस के चार्ल्स काए। अन्य प्रमुख मुख्य कार्यकारी अधिकारियों में केकेआर के हेनरी क्रैविस, जनरल अटलांटिक के बिल फोर्ड, एआईजी इंश्योरेंस के पीटर हैनकॉक, टाइगर ग्लोबल के चेज कोलमैन और एनवाई स्टेट कॉमन रिटायरमेंट फंड के विकी फुलर शामिल थे।

करीब एक घंटे की इस चर्चा में मोदी ने कर कानून को सरल बनाने के लिए और निवेश आकर्षित करने के लिए उठाए गए कदमों की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि देश में व्यापार की सुविधा के लिए काफी कुछ किया गया है। बैठक के बाद निवेशकों ने कहा कि चर्चा संतोषजनक रही।

एनवाई स्टेट कॉमन रिटायरमेंट फंड के मुख्य निवेश अधिकारी विकी फुलर ने कहा, ‘कुल मिलाकर मुझे प्रधानमंत्री के बयान से काफी खुश हुई। भारत हमारे लिए अत्यधिक आकर्षक है।’

जेपी मोर्गन के अध्यक्ष और मुख्य कार्यकारी अधिकारी जैमी डिमॉन ने कहा, ‘प्रधानमंत्री के साथ मुलाकात काफी अच्छी रही। यह काफी सृजनात्मक भी रही।’