सांकेतिक तस्वीर

रुद्रपुर।… नैनीताल से दिल्ली की ओर जा रही काठगोदाम डिपो की एक सेमीडीलक्स बस में अचानक आग लग गई, घटना से समय बस में ड्राइवर व कंडक्टर सहित 19 यात्री सवार थे और ज्यादातर यात्री सोए हुए थे। आग की भनक लगते ही यात्रियों में दहशत फैल गई।

हालांकि बस में सवार सभी 19 लोगों को सकुशल उतार लिया गया, लेकिन आग की चपेट में आने से ड्राइवर का पैर जल गया। शनिवार रात काठगोदाम डिपो की सेमीडीलक्स बस (UK 07 PA1593) नैनीताल से यात्रियों को लेकर दिल्ली जा रही थी। रात करीब पौने 12 बजे जैसे ही बस बिलासपुर (यूपी) के नया गांव स्थित मन्नत गार्डन के पास पहुंची तो उसके अगले हिस्से से धुआं उठना शुरू हो गया।

बताया जा रहा है कि ड्राइवर सरफराज ने जैसे ही बस सड़क किनारे खड़ी की तो उसमें आग की लपटें उठनी शुरू हो गई। जब यह घटनाक्रम हुआ तो बस में सवार 17 में से अधिकांश यात्री नींद में थे। जैसे ही उन्हें आग लगने की जानकारी हुई तो उनमें अफरातफरी मच गई। वे सामान छोड़कर बस से बाहर निकलने लगे। जल्दबाजी में कुछ यात्रियों को खरोंचे भी आईं।

यात्रियों की चीख पुकार सुनकर आसपास के लोगों के साथ ही वहां से गुजर रहे राहगीर भी इकट्ठा हो गए। जब तक यात्री अपना सामान निकाल पाते, उससे पहले ही बस धूं-धूं कर जल उठी। प्रत्यक्षदर्शी ग्रामीण सुखवंत सिंह ने बताया कि बस में सवार सभी लोगों की जान बच गई थी।

हालांकि आग की चपेट में आकर ड्राइवर का पैर झुलस गया था। जब तक फायर ब्रिगेड की गाड़ी मौके पर पहुंचती, पूरी बस जल चुकी थी। वहीं खबर मिलने पर काठगोदाम डिपो के एआरएम देशराज अंबेडकर भी हादसे के पौने दो घंटे बाद मौके पर पहुंच गए। उन्होंने बताया कि जब तक वो पहुंचे तब तक बस जल चुकी थी और यात्री सुरक्षित अपने गंतव्य को रवाना हो चुके थे।