योगगुरु बाबा रामदेव अक्सर विवादों में घिरते रहते हैं। इब उनके संस्थानों में भी विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है. पदार्था फूड पार्क के बाद अब पतंजलि आयुर्वेद कॉलेज में छात्रों ने प्रबंधन के खिलाफ मोर्चा खोलते हुए कैंपस में भूख हड़ताल शुरू कर दी है।

गुस्साए छात्रों ने विरोध प्रदर्शन के दूसरे दिन पतंजलि के गेट पर प्रबंधन का पुतला फूंककर विरोध प्रदर्शन किया। छात्रों का आरोप है कि प्रबंधन छात्रों के साथ भेदभाव कर रहा है और कोर्ट से जीतकर दाखिला पाने वालों से दोगुनी फीस वसूल कर रहा है, जिसे किसी हालत में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

पतंजलि के बाहर विरोध प्रदर्शन कर रहे छात्र-छात्राएं बाबा रामदेव के आयुर्वेद कॉलेज के में बढ़ते हैं। ये कॉलेज प्रबंधन के सौतेले व्यवहार से आक्रोशित हैं। इनका आरोप है कि कॉलेज में आयुष वाले छात्रों की तुलना में सीपीएमई वालों से दोगुनी फीस वसूली जा रही है, जिसको बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

इस संबंध में प्राचार्य से लेकर योगगुरु रामदेव और आचार्य बालकृष्ण तक से शिकायत की जा चुकी है, लेकिन कहीं कोई सुनवाई नहीं हो रही है। छात्रों ने चेतावनी दी है कि जब तक उनकी मांग पूरी नहीं की जाती, तब तक विरोध प्रदर्शन जारी रहेगा।

छात्रों का कहना है की प्रबंधन जानबूझकर ये सब कर रहा है ताकि उन्हें कॉलेज से निकाला जा सके। वहीं, कॉलेज के प्राचार्य इन आरोपों को सिरे से खारिज कर रहे हैं। डॉ. डीएन शर्मा का कहना है कि सबकी फीस एक जैसी है, जिसे कुछ छात्र जमा नहीं करा रहे हैं। अगर सरकार फीस कम करने के आदेश जारी करती है तो फीस कम कर दी जाएगी।

छात्रों का बवाल ऐसे थमता नजर नहीं आ रहा है। यदि गुस्साए छात्रों की मांग पूरी नहीं की जाती तो विरोध प्रदर्शन आंदोलन में भी बदल सकता है।