अब विकलांग बच्चों को उनकी परवरिश के लिए मिलेगी पेंशन: समाज कल्याण विभाग

उत्तराखंड में अब तक 18 वर्ष से अधिक आयु वाले निराश्रित विकलांग व्यक्तियों को राज्य सरकार समाज कल्याण विभाग की विकलांग भरण पोषण अनुदान योजना के तहत प्रतिमाह पेंशन देती है। इसमें योजना का लाभ उसी व्यक्ति को मिलता है जिसके पास 40 प्रतिशत से अधिक विकलांगता का प्रमाण पत्र हो।

18 साल से कम आयु वाले विकलांगजनों के लिए अब तक कोई अनुदान योजना संचालित नहीं थी। इससे कम आय वर्ग वाले अभिभावकों को ऐसे बच्चों के भरण पोषण में कठिनाई का सामना करना पड़ता है। इसी के चलते उत्तराखंड समाज कल्याण विभाग ने अब विकलांग बच्चों के भरण पोषण के लिए भी पात्र अभिभावकों को सरकारी मदद देने का मन बनाया है जिसके तहत 500 रूपए प्रतिमाह भत्ता की बात कही गई है।

विभाग की ओर से इस योजना के लिए आवेदन मांगे गए हैं। आवेदन फार्म जिला समाज कल्याण कार्यालय और विकासखंड स्तर पर सहायक जिला समाज कल्याण अधिकारी कार्यालय से मिलेंगे। इसको प्राप्त करने के लिए कुछ अहर्तायें रखी गई हैं जो नीचे दी गई हैं –

– बच्चे की विकलांगता 40 प्रतिशत से कम न हो
– मुख्य चिकित्साधिकारी द्वारा जारी विकलांगता प्रमाण पत्र
– अभिभावक की मासिक आय 4000 रुपए से अधिक न हो
– बच्चे का आयु प्रमाण पत्र
– परिवार रजिस्ट्रर की नकल
– आवेदन पर प्रधान, पंचायत मंत्री या तहसीलदार से प्रमाणित अभिभावक और बच्चे का फोटो
– तहसीलदार स्तर से जारी आय प्रमाण पत्र
– अभिभावक की बैंक पास बुक की फोटो कापी खाता संख्या के साथ