देहरादून।… उत्तराखंड सरकार ने राज्य में पेट्रोल पर 17 रुपये प्रति लीटर की दर से एकमुश्त कर लगाने का फैसला किया है, जिससे राज्य में पेट्रोल के दाम मौजूदा कीमत से 5.10 रुपये प्रति लीटर बढ़ जाएंगे।

राज्य के मुख्य सचिव राकेश शर्मा ने देहरादून में एक संवाददाता सम्मेलन में इसकी जानकारी देते हुए कहा कि सरकार ने हांलांकि, डीजल को इससे अलग रखा है। डीजल के लिए इस तरह की कोई कर दर तय नहीं की गई है। डीजल पर पहले की तरह ही तय दर पर वैट लगता रहेगा।

शर्मा ने चेतावनी देते हुए कहा कि जो पेट्रोल पंप डीलर आज से डीजल के दाम भी बढ़ाकर बेच रहे हैं, उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

उल्लेखनीय है कि सरकार की इस घोषणा से पहले ही पंप डीलर्स ने पेट्रोल के दाम 5.10 रुपये लीटर बढ़ाकर 67.30 रुपये प्रति लीटर की दर से तथा डीजल 49.39 रुपये प्रति लीटर की दर से बेचना शुरू कर दिया था।

petrol_pump_Nainital

शर्मा ने बताया कि अभी तक सरकार पेट्रोल पर 25 प्रतिशत की दर से वैट लगा रही थी, जिससे सरकार को प्रति लीटर 12.50 रुपये प्राप्त हो रहे थे। कच्चे तेल के दाम घटने से पेट्रोल के दाम भी कम होने से राज्य सरकार के राजस्व में 40 से 50 करोड़ रुपये की कमी आ गई थी।

उन्होंने कहा कि केंद्र से मिलने वाली धनराशि में हुई भारी कटौती के चलते राज्य सरकार को आय के अपने संसाधन बढाने के लिए पेट्रोल पर बेस टैक्स बढ़ाना एक अच्छा विकल्प दिखाई दिया। हाल में मुख्यमंत्री हरीश रावत ने भी इस बात के संकेत दिए थे कि धन की कमी से जूझ रहे राज्य में आय के साधन बढ़ाने होंगे और पेट्रोल पर लगने वाले टैक्स में बढ़ोत्तरी को इसी दिशा में एक कदम माना जा रहा है।