विकासनगर।… उत्तराखंड के जवान देश की रक्षा के लिए अपनी जान देने के लिए हमेशा तैयार रहते हैं। लेकिन कई बार उन्हें जान गंवाने के बाद भी उचित सम्मान नहीं मिलता तो लोगों का गुस्सा फूट पड़ता है।

जम्मू-कश्मीर के उधमपुर में पेट्रोलिंग पर गया देहरादून निवासी एक जवान शहीद हो गया। शहीद का शव मंगलवार सुबह सहसपुर पहुंचा, लेकिन शहीद को राजकीय सम्मान नहीं मिलने से परिजनों ने शव लेने से मना कर दिया।

शनिवार को जम्मू-कश्मीर के उधमपुर में तीन गोरखा राइफल्स में तैनात नवीन खड़का पुत्र तुलसीराम निवासी बयानखाला सहसपुर की पेट्रोलिंग के दौरान मौत हो गई थी।

शहीद का शव जब सहसपुर लाया गया तो परिजनों ने राजकीय सम्मान न मिलने पर शव लेने से इन्कार कर दिया। परिजनों ने इस बात पर भी ऐतराज जताया कि शव के साथ कोई भी सक्षम अधिकारी नहीं आया। परिजनों ने कहा शहीद को सम्मान न मिलने पर उनकी भावनाएं आहात हुई है।

सूचना मिलने पर पुलिस उपाधीक्षक एसके सिंह, विधायक सहदेव पुंडीर, थाना अध्यक्ष यशपाल बिष्ट, दरोगा दिलबर नेगी मौके पर पहुंच गए। शव के साथ आए हवलदार ने पूरे मामले से उच्चाधिकारियों को अवगत कराया। इसके बाद देहरादून से दो गोरखा राइफल्स के अधिकारी मौके के लिए रवाना हुए।