टिहरी बांध के कारण यहां के लोगों के विस्थापन के लिए बसाई गई नई टिहरी को बिल्कुल केंद्र शासित चंडीगढ़ की तर्ज पर मास्टर प्लान के तहत बसाया गया है। नई टिहरी शहर को इन दिनों चंड़ीगढ़ की ही तर्ज पर और हाईटेक बनाने की तैयारी चल रही है। जिला प्रशासन और नगर पालिका प्रशासन के बीच हुई बैठक में कई निर्णय लिए गए हैं।

इसके तहत शहर को सुंदर और सुरक्षा की दृष्टि से विकसित करने की कई महत्वपूर्ण योजनाएं शामिल हैं। सबसे पहले नगर पालिका की तरफ से शहर के बीचो-बीच बने कूड़ेदान को शिफ्ट करने की योजना है, जिसके लिए पुर्नवास विभाग ने नगर पालिका को शहर के बाहर करीब तीन बीघा भूमि उपलब्ध करा दी है।

उपलब्ध कराई गई जमीन में पालिका की तरफ से अत्याधुनिक तरीके से कूड़ादान बनाया जाना है, जिसके लिए जल्द ही टेंडर आमंत्रित किए जाएंगे। इसके अलावा शहर में नई टिहरी से कोटी कॉलोनी तक फ्री इंटरनेट सेवा देने की योजना है और इसके साथ ही सुरक्षा के तहत सीसीटीवी कैमरे भी लगाए जा रहे हैं। इससे शहर में लगातार बढ़ रही आपराधिक घटनाओं को रोकने में मदद मिलेगी।

इसकी शुरुआत नगर पालिका से शुरू हो गई है और नई टिहरी चौराहे से लेकर बौराड़ी तक की चार जगहों को चिन्हित किया गया है, जहां करीब 6 लाख रुपये की लागत से एडवांस पीटी जेट कैमरे लगाए जाएंगे।

पालिका और जिला प्रशासन की तरफ से पर्यटकों के आकर्षण के लिए अब म्यूजियम और पिक्चर पैलस बनाए जाने की भी योजना प्रस्तावित है साथ ही पालिका अब अपने जीर्णशीर्ण हो चुके पार्कों का भी जीर्णोद्धार कराएगी, जिसमें बच्चों के लिए झूले सहित लोगों के बैठने के लिए व्यवस्थाएं की जाएगी।