उत्तराखंड के विकास की खातिर मुख्यमंत्री ने PM मोदी से मांगे 22 हजार करोड़ : रणजीत रावत

मुख्यमंत्री हरीश रावत के औद्योगिक सलाहकार रणजीत सिंह रावत का कहना है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भले ही अपने ऋषिकेश दौरे में राज्य के लिए कोई घोषणा नहीं की, लेकिन सीएम ने राज्य की विकास योजनाओं के लिए लगभग 22 हजार करोड़ की मांग की है।

उन्होंने कहा है कि इस धनराशि से आपदा पुर्नवास के साथ ही भूकंपरोधी भवन बनाने और जर्जर स्कूलों व कॉलेजों की मरम्मत का कार्य किया जाना है। उन्होंने कहा है कि कांग्रेस संघीय ढांचे में विश्वास करती है और पीएम नरेंद्र मोदी को निश्चित तौर पर उत्तराखंड को कुछ न कुछ देना पड़ेगा।

दिल्ली में हुई सीआईआई की बैठक को लेकर रणजीत सिंह रावत ने कहा है कि राज्य में पूंजी निवेश को लेकर उद्यमी उत्साहित हैं। उन्होंने कहा है कि एक तो उत्तराखंड में कानून व्यवस्था की स्थिति देश के अन्य राज्यों की तुलना में बेहतर है और दूसरी ओर बिजली की दरें भी अन्य राज्यों से काफी कम है।

उन्होंने कहा कि उत्तराखंड में स्किल्ड और अनस्किल्ड दोनों प्रकार का मैन पावर भी मौजूद है। उन्होंने कहा है कि राज्य से उद्योगों के जाने की कोई बात नहीं है, बल्कि जल्द ही प्रदेश में नए उद्योग लगेंगे। रणजीत सिंह रावत ने कहा है कि उत्तराखंड में प्रतिभाओं की कोई कमी नहीं है और उत्तराखंड देश और दुनिया को बेहतरीन मानव संसाधन दे सकता है।

उन्होंने कहा कि उत्तराखंड सरकार इस दिशा में काम भी कर रही है। दरअसल रणजीत सिंह रावत एमबीपीजी कॉलेज में शनिवार को आयोजित प्रतिभा सम्मान समारोह सृजन 2015 में शिरकत करने पहुंचे थे। उन्होंने जहां युवा संघर्ष समिति द्वारा आयोजित प्रतिभा सम्मान समारोह का शुभारंभ किया, वहीं उन्होंने सीएम हरीश रावत द्वारा उच्च शिक्षा को बढ़ावा देने की बात कही।

उन्होंने कहा कि सीएम हरीश रावत के प्रयासों से डिग्री कॉलेजों और इंजीनियरिंग कालेजों में नए विषय खोले जा रहे हैं। इसके साथ ही आईटीआई, पॉलीटेक्निक के साथ ही कृषि और हॉर्टीकल्चर के ‌विषयों को भी बढ़ावा दिया जा रहा है। इस मौके पर सीएम के औद्योगिक सलाहकार ने मेधावी छात्र-छात्राओं को सम्मानित भी किया।