हड़ताल वापस लें और तुरंत काम पर लौंटे नर्सें : नैनीताल हाईकोर्ट

नैनीताल हाईकोर्ट ने उत्तराखंड में पिछले कुछ दिनों से जारी नर्सों की हड़ताल के मामले में नाराजगी जताई है। हाईकोर्ट ने नर्सों को तुरंत हड़ताल वापस लेकर काम पर लौटने के आदेश दिया है।

साथ ही कोर्ट ने आदेश दिया है कि चीफ सेक्रेटरी, प्रिंसिपल सेक्रेटरी हेल्थ और पांच प्रतिनिधि जल्द से जल्द एक साथ बैठक कर नर्सों की समस्या का समाधान करें और उसकी रिपोर्ट कोर्ट में पेश करें। मामले की अगली सुनवाई के लिए 14 सितंबर की तारीख तय की गई है।

मुख्य न्यायाधीश के.एम. जोसेफ एवं न्यायमूर्ति वी.के. बिष्ट की संयुक्त खंडपीठ के समक्ष शुक्रवार को मामले की सुनवाई हुई। हाईकोर्ट की वकील लता नेगी ने हाईकोर्ट में जनहित याचिका दायर कर कहा था कि राज्य के सरकारी अस्पतालों में कार्यरत नर्सों ने पिछले कई दिनों से हड़ताल की हुई है, जिससे स्वास्थ्य सेवाओं पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ रहा है।

इस मामले में अपर महाधिवक्ता ने सरकार का पक्ष रखते हुए बताया कि नर्सों की मांगों को पूरा करने के लिए उच्चस्तरीय कमेटी बनाई गई है और नर्सों की ज्यादातर मांगें मान भी ली गई हैं।

नर्सेज एसोसिएशन की ओर से वकील एमसी पंत ने कहा कि वे हड़ताल वापस ले लेंगे, लेकिन उनकी मांगों को पूरा किया जाए। सभी पक्षों की सुनवाई के बाद हाईकोर्ट की खंडपीठ ने राज्यभर की नर्सों को तुरंत हड़ताल वापस लेने का आदेश दिया।