ऋषिकेश।… प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को विपक्षी कांग्रेस पर नकारात्मक राजनीति करने का आरोप लगाया और कहा कि बीजेपी को सत्ता में आने से रोकने में विफल रहने के बाद वह अब देश के विकास में आड़े आ रही है।

ऋषिकेश के वीरभद्र क्षेत्र में स्थित आईडीपीएल मैदान पर उत्तराखंड बीजेपी द्वारा आयोजित अभिनंदन समारोह के बाद एक ‘आभार सभा’ को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि कांग्रेस ने संसद नहीं चलने दी, जनता के मुद्दों पर चर्चा नहीं होने दी। उन्होंने कहा, ‘क्या यह नकारात्मक राजनीति देश का भला करेगी? आप बताइए कि लोकतंत्र में चर्चा होनी चाहिए या नहीं?’

मोदी ने कहा कि कांग्रेस ने सत्ता को अपनी पारिवारिक संपत्ति समझ लिया है और वह एक चाय वाले और एक गरीब के बेटे के नेतृत्व को पचा नहीं पा रहे हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस यह नहीं समझ पा रहे हैं कि पूरी ताकत लगाकर देश का भला करने के लिए जनता ने हमें बहुमत दिया है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि विपक्ष का काम विरोध करना है, लेकिन विरोध और नकारात्मक राजनीति में बड़ा अंतर होता है। उन्होंने कांग्रेस को चेताया कि नकारात्मक राजनीति का नतीजा बुरा होता है और लोकतंत्र में यह नहीं चल सकता।

उन्होंने कहा, ‘कांग्रेस समझे कि नकारात्मक राजनीति का परिणाम क्या होता है। पंचायत से लेकर संसद तक वह कहीं नजर नहीं आ रही है। हाल में मध्य प्रदेश में हुए पंचायत चुनावों में क्या हुआ, कांग्रेस साफ हो गई।’ मोदी ने कहा कि उनकी पार्टी ने कभी नकारात्मक राजनीति नहीं की और हमेशा जनता के विश्वास को जीतने की कोशिश की।

प्रधानमंत्री ने कांग्रेस पर विकास की राह में आड़े आने का भी आरोप लगाया। उन्होंने कहा, ‘हमारा एक ही मंत्र है, विकास और अगर देश का कल्याण करना है तो विकास करना होगा। लेकिन ये विकास में भी आड़े आ रहे हैं। बीजेपी को सत्ता में आने से नहीं रोक पाए तो देश के विकास को रोक रहे हैं।’

मोदी ने कहा कि उनकी सरकार समयबद्ध लक्ष्य निर्धारित करके काम पूरे करने में लगी है और सवा साल के कार्यकाल में कई उपलब्धियां हासिल हुई हैं। उन्होंने कहा कि वह कठिन कार्य करने के लिए पैदा हुए हैं और उनका लक्ष्य है कि साल 2022 तक वह देश के सभी हिस्सों में 24 घंटे बिजली पहुंचाएं।

उन्होंने कहा, ‘साल 2022 में जब आजादी के 75 साल पूरे होंगे, तब हम ऐसा हिंदुस्तान देना चाहते हैं जहां 24 घंटे बिजली आती हो।’ मोदी ने कहा कि आजादी के 65 साल से भी ज्यादा गुजर जाने के बावजूद अब भी देश के 18000 गांव ऐसे हैं जहां बिजली की बात तो दूर रही, उसके लिए खंभा या तार भी नहीं पहुंची है।

पीएम ने कहा ‘लेकिन हमने ठान लिया है कि 1000 दिनों में 18000 गांवों में बिजली पहुंचनी चाहिए।’ देवभूमि उत्तराखंड के ज्यादातर परिवारों के सदस्यों के सेना में होने का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि ऊपर से बाबा केदारनाथ देश की रक्षा करते हैं, जबकि नीचे जवान इस काम में लगे हुए हैं और इसको देखते हुए उनकी सरकार ने ‘वन रैंक वन पेंशन’ जैसे लंबित मामले का समाधान निकाला है।

उन्होंने कहा कि यूपीए सरकार के समय में अनुमान लगाया गया था कि इस फैसले को लागू करने में सरकार पर 500 करोड़ रुपये का व्यय आएगा, लेकिन वास्तविक आंकलन इससे कहीं ज्यादा दस हजार करोड़ रुपये निकला, जो भारत जैसे गरीब देश के लिए आसान नहीं था।

हालांकि, उन्होंने कहा, ‘हमारे जवानों का सम्मान इस खर्चे से कहीं ज्यादा है और इसके मद्देनजर केंद्र सरकार ने इसे लागू करने का निर्णय ले लिया।’ इससे पहले, मोदी ने इतने कम समय में सभा का संचालन करने के लिए सभी बीजेपी कार्यकर्ताओं का धन्यवाद किया। भारी भीड़ को देखकर मोदी ने कहा, ‘जहां तक मेरी नजर जा रही है, वहां तक मस्तक ही मस्तक दिखाई दे रहे हैं।’ उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री बनने के बाद उनकी यह पहली उत्तराखंड यात्रा है जहां हुए स्वागत सम्मान को वह कभी नहीं भूल पाएंगे।

प्रधानमंत्री ने कहा कि अपने सवा साल के कार्यकाल में उन्होंने कठिन परिश्रम किया है। उन्होंने कहा कि उन्होंने स्कूलों में टॉयलेट का निर्माण कराया, जिनके न होने से लडकियों को अपनी शि़क्षा बीच में छोड़नी पड़ती थी। उन्होंने कहा, ‘अब टॉयलेट का काम पूरा करने के लिए एक साल का लक्ष्य है।’ मोदी ने कहा कि गरीबों, जवानों और महिलाओं के लिए जन धन खाता योजना शुरू की, जिसके तहत केवल 100 दिन में 17 करोड़ नए खाते खुले।

बाद में, सभा स्थल से मोदी सड़क मार्ग से शीशमझाड़ी स्थित दयानंद आश्रम पहुंचे, जहां उन्होंने स्वामी दयानंद गिरि से मुलाकात की और उनका हाल चाल लिया। स्वामी गिरि से प्रधानमंत्री के पुराने व्यक्तिगत संबंध हैं और समझा जा रहा है कि वह पिछले कुछ समय से अस्वस्थ चल रहे स्वामी गिरि के स्वास्थ्य का हाल चाल लेने आए थे।

स्वामी से मुलाकात करने के बाद मोदी दिल्ली रवाना हो गए।