सांकेतिक फोटो

नैनीताल के स्टोनले कंपाउंड स्थित दोमंजिला मकान में गुरुवार रात बर्थ-डे पार्टी चल रही थी। लेकिन जैसे खुशियों को किसी की नजर लग गई और बिल्डिंग में अचानक आग लग गई।

सिलेंडर से भड़की आग ने यहां चार परिवारों को बेघर कर दिया। ऊंचाई वाला स्थान होने की वजह से दमकल वाहन सड़क पर ही खड़ा रहा। मोहल्ले के युवाओं ने ही तत्परता दिखाकर आग पर काबू पाया। आग से लाखों का नुकसान होने का अनुमान लगाया जा रहा है।

स्टोनले कंपाउंड निवासी बिजली विभाग की कर्मचारी पार्वती भैंसोड़ा पत्नी हिम्मत सिंह का चार सेट का दोमंजिला मकान है। मकान के तीन कमरों में पार्वती के बेटे व एक हिस्सा किराए पर लगा है। गुरुवार को पार्वती के बेटे पूरन की बेटी योगिता का बर्थ-डे था।

अधिकांश मेहमान खाना खा चुके थे, जब पूरन की धर्मपत्नी ने रसोई गैस जलाने के लिए पिन वाला सिलेंडर खोला तो एकाएक माचिस जलाने में देर हो गई। चंद मिनट में माचिस जली तो लीकेज गैस में आग लग गई और पास में ही स्थित बिस्तर में सुलग गई, देखते ही देखते मकान में धुआं भर गया और करीब एक दर्जन लोगों का दम घुटने लगा।

धुएं का गुबार दूर तक लोगों को दिखाई देने लगा। इस बीच मोहल्ले के लोग भी घरों से बाहर आ गए। मोहल्ले के दर्जनों हिम्मती युवाओं ने आनन-फानन में पेयजल लाइन तोड़कर बाल्टियों में पानी भर आग बुझाई। कुछ उत्साही युवाओं ने सव्वल से छत के टिन उखाड़े और अंदर पानी की बौछार डाली। करीब दो घंटे तक स्थानीय युवाओं सहित बुजुर्गों की कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया जा सका।

आग से कमरों में रखी अलमारियां, बिस्तर सहित अन्य सामान जलकर खाक हो गया। फायर बिग्रेड का वाहन सूचना पर पहुंचा था, लेकिन ऊंचाई वाला इलाका होने व रास्ता नहीं होने की वजह से सड़क पर ही खड़ा रहा। पुलिस व दमकल कर्मियों ने आग बुझाने में सहयोग जरूर दिया।