अल्मोड़ा।… उत्तराखंड की पवित्र भूमि से कई नदियां निकलती हैं। यहां नदियों में पानी का बहाव भी काफी तेज होता है। ऐसे में पुल के अभाव में नदी पार करते समय कई ग्रामीण असममय मौत के मुंह में समां जाते हैं। लेकिन अब यह समस्या दूर होने जा रही है।

उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष व अल्मोड़ा जिले के जागेश्वर क्षेत्र के विधायक गोविंद सिंह कुंजवाल के प्रयासों से सरकार ने सात पुल स्वीकृत किए हैं। पुल निर्माण के लिए 12.30 लाख रुपये भी स्वीकृत हो चुके हैं। वहीं पुल निर्माण के लिए जल्द से जल्द कदम उठाने के निर्देश लोक निर्माण विभाग (पीडब्ल्यूडी) को दिए हैं।

जागेश्वर विधानसभा क्षेत्र के कई गांवों के ग्रामीण नदी पर पुल नहीं होने से आवाजाही में बड़ी परेशानी झेल रहे थे और बरसात में उनकी जिंदगी पर खासा खतरा बना रहता था। कई बार ग्रामीण नदी पार करते वक्त बह जाते हैं। इस कारण लंबे समय से पैदल पुलों के निर्माण की मांग उठ रही थी।

Bhikiasain-almora12कुंजवाल की कोशिशों से सरकार ने क्षेत्र में सात नए पुल निर्माण की स्वीकृति दी है। इनके लिए धन भी स्वीकृत किया है। इनमें तीन बड़े पुल शामिल हैं। स्वीकृत पुलों में से कपिलेश्वर नदी में सैंज गांव के पास 77 मीटर स्पान का झूला पुल बनेगा, जिसके निर्माण के लिए 2.88 लाख रुपये स्वीकृत किए हैं।

कुंजवाल ने बताया कि इसके अलावा बडयूड़ा गांव के करीब सुयाल नदी पर 1.98 से 30 मीटर स्पान स्टील गार्डन पैदल पुल, ग्राम खडियारी से नैनी पैदल मार्ग में जटा गंगा में 21 मीटर स्पान के स्टील गार्डन पुल के लिए 1.50, छनटाना ग्राम के निकट भैंटीगाड़ में 21 मीटर स्पान के पुल के लिए 1.50 लाख, बरगला गांव के करीब पोखरी नदी में 24 मीटर स्पान के पुल के लिए 1.04 लाख, मोरपट्यूड़ी व पोखरी पंगाड़ी में 21 मीटर स्पान पुल के लिए 0.92 लाख रुपये, पनार नदी के टंकेश्वर मंदिर के करीब 60 मीटर स्पान के झूलापुल के लिए 2.48 लाख रुपये स्वीकृत किए हैं।

कुंजवाल ने कार्यदायी संस्था लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को स्वीकृत पुलों का निर्माण शीघ्र करने के निर्देश दिए हैं।