उत्तराखंड की बेटी प्रियंका पाल की हॉकी इंडिया कैंप में एंट्री

उत्तराखंड की एक और बेटी प्रियंका पाल ने राष्ट्रीय स्तर की हॉकी में दस्तक दे दी है। प्रियंका से पहले ही वंदना कटारिया, शिवानी बिष्ट और शिखा बिष्ट राष्ट्रीय स्तर की हॉकी खिलाड़ी हैं। उत्तराखंड की जूनियर महिला हॉकी टीम की गोलकीपर प्रियंका पाल का चयन जूनियर भारतीय हॉकी कैंप में किया गया है।

दिल्ली के नेशनल स्टेडियम में 5 सितंबर से 28 सितंबर तक भारतीय जूनियर महिला हॉकी टीम का कैंप आयोजित होना है। इसमें देहरादून के राजेंद्रनगर निवासी प्रियंका पाल भी शामिल होंगी। मध्यमवर्गीय परिवार से ताल्लुक रखने वाली प्रियंका ने बताया कि एमकेपी इंटर कॉलेज में कक्षा छह में पढ़ाई के दौरान पहली बार हॉकी स्टिक पकड़ी थी।

एमकेपी और पवेलियन मैदान में कोच माधुरी नवानी ने हॉकी की बारीकियां सिखाईं। इसके साथ ही प्रियंका अपनी सफलता का श्रेय हॉकी प्रशिक्षक पीके महर्षि को भी देती हैं। प्रियंका ने बताया कि अभी तक वह कुल 15 राष्ट्रीय प्रतियोगिताएं खेल चुकी हैं, जिनमें करीब 10 पदक जीते हैं। बताया कि बीती जुलाई में छत्तीसगढ़ में जूनियर नेशनल हॉकी प्रतियोगिता का आयोजन हुआ था। यहां उनके खेल को देखकर इंडिया कैंप के लिए चुना गया है।

उनके पिता गुरुचरण पाल मजदूरी करते हैं, जबकि मां सरोज पाल एक निजी स्कूल में कार्यरत हैं। खुद प्रियंका भी एक निजी कंपनी में काम कर अपने घर का खर्च चलाने में सहयोग कर रही हैं। प्रियंका ने कहा कि इंडिया कैंप ही उनके आगे के रास्ते खोलेगा। उनका अगला लक्ष्य अब टीम इंडिया में जगह बनाने का है। इसके लिए वह कैंप में पूरी कोशिश करेंगी।