सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे ने पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम के निधन पर शोक प्रकट किया और उन्हें अपनी ‘प्रेरणा’ बताया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कलाम के निधन पर दुख व्यक्त किया और कहा कि उन्होंने एक ‘मार्ग दर्शक’ खो दिया है, जिन्होंने भारत को विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में नई ऊंचाई पर पहुंचाया।

अपने शोक संदेश में समाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे ने कहा, ‘मैं कलाम के निधन की खबर सुनकर दुखी हूं। उनका निधन देश के लिए नुकसान है। वह मेरी प्रेरणा थे और युवाओं के गाइड थे।’ सामाजिक कार्यकर्ता ने कहा, ‘हम आरटीआई एक्ट पर बैठक के समय मिले थे। उसके बाद मैं कई बार दिल्ली में उनसे मिला। वह मेरी प्रेरणा थे।’

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, ‘वह एक महान वैज्ञानिक थे जिन्होंने विज्ञान और प्रौद्योगिकी के साथ ही अंतरिक्ष के क्षेत्र में काफी योगदान दिया। मैंने एक मार्गदर्शक खो दिया है।’ उन्होंने कहा, ‘वह पूरे देश, विशेष रूप से युवाओं के लिए प्रेरणा का स्रोत थे। वह अपने अंतिम दिनों में भी सबसे जुड़े रहे।’

दूरदर्शी और युवकों के लिए प्ररेणा स्रोत बने रहेंगे कलाम
उपराष्ट्रपति मोहम्मद हामिद अंसारी ने कलाम के निधन पर शोक व्यक्त किया और उन्हें दूरदर्शी और ‘भारत का सच्चा बेटा’ बताया, जिनका जीवन देश के लाखों युवकों के लिए प्ररेणा स्रोत बना रहेगा।

अपने शोक संदेश में अंसारी ने कहा कि कलाम का देश के लिए योगदान, प्रौद्योगिकी के तौर पर एक शिक्षक के तौर पर और नेता के तौर पर रहा और उन्हें कृतज्ञ राष्ट्र संजो कर रखेगा। उन्होंने कहा कि भारत के अंतरिक्ष और मिसाइल कार्यक्रम के मार्गदर्शक के तौर पर डॉ. कलाम की कोशिशों से भारत इन क्षेत्रों में प्रमुख शक्ति है।

उप राष्ट्रपति ने कहा कि कलाम एक दूरदर्शी व्यक्ति थे और वह विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी के इस्तेमाल के माध्यम से भारत को और शांतिपूर्ण तथा अधिक समानता वाला तथा मजबूती से उभरते राष्ट्र के तौर पर हुए देखना चाहते थे। उन्होंने असीम जिज्ञासा और विनम्रता से इसे साकार किया। उनका जीवन देश के लाखों युवकों के लिए प्रेरणा स्रोत बना रहेगा।