पंजाब के गुरदासपुर में आतंकवादियों के साथ सोमवार सुबह से चल रही सुरक्षा बलों की मुठभेड़ आखिरकार 11 घंटे बाद खत्‍म हो गई। खबरों के अनुसार सभी 3 आतंकी मारे जा चुके हैं। इस हमले में तीनों आतंकियों सहित कुल 9 लोगों की मौत हुई।

इस आतंकवादी हमले में एसपी (डिटेक्टिव) बलजीत सिंह भी शहीद हो गए। आतंकवादियों के खिलाफ ऑपरेशन के दौरान उनके सिर में गोली लग गई। वह ऑपरेशन की अगुवाई कर रहे थे। सुरक्षाबलों ने सभी तीन आतंकियों को मार गिराया है। हालांकि पहले अंदेशा था कि कुल 4 आतंकियों ने हमले को अंजाम दिया है।

इस हमले को लेकर पंजाब के मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल ने केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि ये आतंकी पंजाब से नहीं आए, वे बॉर्डर से आए हैं। बॉर्डर को सील करने की जिम्मेदारी केंद्र सरकार की है।

gurdaspur

इससे पहले सुबह गुरदासपुर में सेना की वर्दी में आए आतंकियों ने एक बस और उसके बाद पुलिस थाने पर हमला किया। हमले की जानकारी मिलते ही तुरंत रैपिड एक्शन फोर्स, बम निरोधक दस्ते और वरिष्ठ अधिकारियों सहित भारी पुलिस बल को तैनात कर दिया गया। ऑपरेशन में सेना के दो हेलिकॉप्टर भी लगाए गए थे।

दीनानगर-पठानकोट रेलवे ट्रैक पर भी सोमवार सुबह पांच बम मिले थे। यह इलाका पाकिस्तान सीमा से सटा हुआ है। दीनानगर और पठानकोट के बीच तुरंत ट्रेन सेवा रोक दी गई। पठानकोट हाइवे भी बंद कर दिया गया।

इस हमले को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में केंद्रीय मंत्रियों की बैठक हुई। राजनाथ सिंह ने पंजाब के मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल से बात की। गुरदासपुर आतंकी हमले के बाद राजनाथ ने सुरक्षा बलों से भारत-पाकिस्तान सीमा पर चौकसी बढ़ाने को कहा।

बताया जा रहा है कि सुबह करीब साढ़े पांच बजे तीन से चार हमलावर थाने में घुस आए। वे सफ़ेद मारुति-800 कार में आए थे और अंधाधुंध फ़ायरिंग करते हुए थाने में घुस गए। इस कार को भी उन्होंने हाइजैक कर अपने कब्जे में कर लिया था।

gurdaspur1

पुलिस सूत्रों के अनुसार घटना सुबह तब शुरू हुई, जब हमलावरों ने सड़क किनारे स्थित एक भोजनालय को निशाना बनाया और बाइपास के पास सो रहे एक व्यक्ति की हत्या करने के बाद एक कार ले उड़े। हमलावरों ने दीनानगर थाने के पास स्थित एक सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर भी हमला किया।

गुरदासपुर के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) गुरप्रीत सिंह ने बताया कि हमलावरों ने पहले अमृतसर-पठानकोट हाइवे पर जम्मू-कश्मीर से पंजाब की ओर आ रही एक चलती बस पर भी फायरिंग की। आसपास की दुकानों के शटर पर भी गोलियां के निशान साफ देखे जा सकते हैं।

उधर इस हमले का असर भारत और पाकिस्‍तान के क्रिकेट संबंधों पर भी पड़ता दिख रहा है। बीसीसीआई सचिव अनुराग ठाकुर ने कहा कि आतंक और क्रिकेट दोनों एक साथ नहीं चल सकते हैं। गौरतलब है कि दिसंबर में भारत और पाकिस्‍तान के बीच क्रिकेट सीरीज होनी थी, लेकिन अब वो सीरीज भी खटाई में पड़ गई है।