रुद्रप्रयाग : मूसलाधार बारिश ने उफन रहे हैं गदेरे, डर के साए में लोग

रुद्रप्रयाग में अपर बाजार कस्बे के बीचों बीच बह रहे तुन गदेरे के किनारे रह रहे लोग इन दिनों भारी बारिश से बेहाल है। गदेरे (बरसाती नाले) पर सुरक्षा दीवार न होने से स्थानीय लोगों को जान का डर सता रहा है। आलम यह है कि आसपास बह रहे बरसाती नालों, नदी के तेज शोर व बारिश के चलते ये लोग बिना सोए रात काट रहे हैं।

तुन गदेरे के किनारे रह रहे लोगों के लिए शनिवार की रात काफी कष्टदायक रही। शनिवार आधी रात को हुई तेज बारिश के चलते जयमंडी गदेरे में अचानक पानी का प्रवाह बढ़ गया। पानी के साथ भारी मात्रा में पत्थर व मिट्टी बहने लगी।

गदेरे का पानी व मलबा जैसे-जैसे आगे बढ़ने लगा शोर भी बढ़ने लगा। तेज आवाज सुनकर तुन गदेरे के किनारे बने मकानों में रहने वाले लोग डर के मारे जाग गए। सभी लोग रात को बाहर आकर अपने घरों की छतों पर चले गए। इस दौरान तुन गदेरे में भी पानी बढ़ गया।

ये सभी लोग रातभर अपने घरों की छतों पर बारिश कम होने का इंतजार करते रह गए। तुन गदेरे के शुरुआती व अंतिम छोर पर सुरक्षा दीवार का निर्माण किया गया है। लेकिन बीच में छोड़ दिया गया है। बरसात में गदेरे में पानी बढ़ जाने से सारा पानी इन लोगों के घरों में आ जाता है।

यहां के लोगों का कहना है कि जब रात को तेज बारिश के साथ गदेरे में पत्थरों की आवाज आई तो एक बार लगा कि ये सभी तुन गदेरे में आ रहा है। खतरा देख आसपास के बुजुर्ग व बच्चे सभी बाहर आ गए। लेकिन जब बाहर आकर देखा तो यह शोर जयमंडी गदेरे में हो रहा था।

बारिश के दौरान सारा पानी यहां लोगों के रों में घुस जाता है। सुरक्षा दीवार के लिए प्रशासन को कई बार अवगत कराया गया था, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। उधर एसडीएम सीएस चौहान का कहना है कि पूरे क्षेत्र में सर्वे कराकर प्रभावित क्षेत्र में सुरक्षा के उपाय किए जाएंगे।