IPL स्पॉट फिक्सिंग मामले में श्रीसंत और 35 अन्य बाइज्जत बरी

दिल्ली की एक अदालत ने शनिवार को इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल)-2013 से जुड़े स्पॉट फिक्सिंग मामले में क्रिकेट खिलाड़ी शांताकुमारन श्रीसंत और 35 अन्य आरोपियों को बरी कर दिया। अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश नीना बंसल कृष्णा ने तीनों खिलाड़ियों श्रीसंत, अजीत चंडीला और अंकित चव्हाण के अलावा 33 अन्य आरोपियों को दोषमुक्त करार दिया।

दिल्ली पुलिस ने आरोपियों पर भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की विभिन्न धाराओं के अलावा बेहद सख्त मकोका के तहत भी आरोप लगाए थे। अदालत ने वकीलों, पत्रकारों और अन्य लोगों की भारी भीड़ के बीच अपना फैसला सुनाया। अदालत ने जैसे ही सभी आरोपियों को दोषमुक्त करार दिया, श्रीसंत वहीं रो पड़े।

IPL-spot-fixing

अदालत के फैसले का स्वागत करते हुए श्रीसंत ने पत्रकारों से कहा कि उन्हें न्याय व्यवस्था में पूरा विश्वास था और पूरा भरोसा था कि इस मामले में वह छूट जाएंगे। राजस्थान रॉयल्स टीम से जुड़े तीनों खिलाड़ियों को दिल्ली पुलिस ने स्पॉट फिक्सिंग के आरोप में गिरफ्तार किया था।

IPL-spot-fixing-signal

बीसीसीआई से आजीवन प्रतिबंध की सजा झेल रहे चव्हाण और श्रीसंत जमानत पर रिहा हो गए थे, लेकिन चंडीला को जमानत नहीं मिल पायी थी। अदालत का यह फैसला दिल्ली पुलिस के लिए एक झटका है, जिसने पूरे मामले की जांच की थी। पुलिस ने अदालत के सामने 6000 पेज की चार्जशीट दाखिल की थी, जिसमें 42 लोगों को आरोपी बनाया गया था।

आईपीएल-6 के दौरान सामने आई इस हिला देने वाली घटना के तहत दिल्ली पुलिस ने 16 मई 2013 को भारत के लिए टेस्टक्रिकेट खेल चुके श्रीसंत सहित कई सटोरियों को गिरफ्तार किया था।

sreesanth-odi

आरोपियों में अंडरवर्ल्ड सरगना दाउद इब्राहिम और उसका सहयोगी छोटा शकील भी शामिल थे। खिलाड़ियों को तो अदालत ने जमानत दे दी थी, लेकिन दाऊद और शकील के खिलाफ अदालत ने गैरजमानती वारंट जारी किया था। दाऊद और छोटा शकील फरार हैं और घोषित अपराधी हैं। पुलिस ने उनकी संपत्तियों की कुर्की भी कर ली है।