खुले तौर पर ‘आतंकवादी’ याकूब मेमन के समर्थन में आए सांसद ओवैसी

हैदराबाद।… मुंबई बम धमाकों के दोषी और अदालत से फांसी की तजा पाए याकूब मेमन के फांसी को लेकर एक बार फिर राजनीति शुरू हो गई है। MIM अध्यक्ष और हैदराबाद से सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने याकूब की फांसी पर कड़ी आपत्ति जताई है।

ओवैसी ने केंद्र सरकार पर आरोप लगाया है कि वह धर्म को आधार बनाकर फांसी दे रही है। गौरतलब है कि 30 जुलाई को मेमन को फांसी दिए जाने का फैसला हुआ है।

इस बारे में ओवैसी ने कहा कि सरकार मजहब को आधार बनाकर फांसी की सजा तय रही है। याकूब मेमन को फांसी क्यों दी जा रही है। अगर सूली पर चढ़ाना ही है तो राजीव गांधी के हत्यारों को भी चढ़ाया जाए। इस तरह मजहब को आधार नहीं बनाया जाए।’

गौरतलब है कि मुंबई धमाकों के दोषी याकूब मेमन को फांसी लगना अब तय माना जा रहा है। सुप्रीम कोर्ट ने याकूब की क्यूरेटिव याचिका को मंगलवार को खारिज कर दी थी। हालांकि याकूब ने एक बार फिर सुप्रीम कोर्ट में फांसी टालने के लिए अर्जी लगाई है।

1993 मुंबई धमाके में 257 लोगों की मौत हो गई थी, जबकि 700 लोग घायल हो गए थे। इन धमाकों के पीछे अंडरवर्ल्ड सरगना दाऊद इब्राहिम का हाथ था। याकूब मेमन ‘डी’ कंपनी का सिपहसालार है और यही मुंबई धमाकों का सबसे बड़ा प्लांटर भी है।

सुप्रीम कोर्ट ने 1993 मुंबई बम विस्फोटों के दोषी याकूब मेमन की याचिका को खारिज करते हुए उसकी फांसी की सजा को बरकरार रखा है।