‘जिसकी बीवी छोटी उसका भी बड़ा नाम है’, समझो अब तो छोटे कद वाले मियां की भी निकल पड़ी

नाम में क्या रखा है? ये तकियाकलाम तो आपने सुना ही होगा। साथ ही मेगास्टार अमिताभ बच्चन का वो गाना भी जरूर सुना होगा – ‘जिसकी बीवी छोटी उसका भी बड़ा नाम है।’ नाम में भले ही कुछ रखा हो ना नहीं उत्तराखंड में छोटे कद वालों की तो निकल पड़ी। अपने छोटे कद की वजह से परेशानियों का सामना करने वाले सभी वयस्कों को अब आर्थिक सहायता दी जाएगी।

इसके लिए समाज कल्याण द्वारा राज्य के 13 जिलों को चिट्ठियां भेजी गई हैं, जिनसे चार फुट से कम कद वाले लोगों की संख्या के बारे पूछा गया है। विभाग की ओर से 22 जून को भेजी गई चिट्ठियों में 21 या उससे अधिक आयु के कम कद वाले लोगों का ब्यौरा मांगा गया है।

समाज कल्याण निदेशक विष्‍णु सिंह धानिक का कहना है कि चार फुट के कम कद वाले इन लोगों को हर महीने 800 रुपये की पेंशन दी जाएगी। ऐसे लोगों की पहचान करने के लिए जिलों में सर्वे कार्य किया जा रहा है।

फिलहाल, चंपावत जिले से इस लाभ के लिए पांच लोगों की एक सूची भी भेज दी गई है। समाज कल्याण निदेशालय के अधिकारियों ने बताया कि इस संबंध में मुख्यमंत्री हरीश रावत से बात भी कर ली गई है। इस लाभ को पाने के लिए 200 से अधिक मेडिकल शर्तें रखी गई हैं, जिनके तहत पात्र लोगों का चुनाव किया जाएगा।

समाज कल्याण निदेशक विष्‍णु सिंह धानिक का कहना है कि कम लंबाई के कारण इन लोगों के सामाजिक और मानसिक परेशानियों से जूझना पड़ता है। इस योजना से ऐसे लोगों को लाभ होने के साथ उनका मनोबल भी बढ़ेगा।