हल्द्वानी।… विदाई की नमाज के साथ ही जुम्मे की शाम को चांद के दीदार हुए और दुनियाभर में करोड़ों चेहरों पर रौनक आ गई। शुक्रवार को चांद नजर आने के बाद शनिवार को बड़े ही धूम-धाम से ईद मनाई जा रही है। शुक्रवार को चांद के दीदार के साथ ही मुस्लिम समाज में एक-दूसरे को ईद की मुबारकबाद देने का सिलसिला शुरू हो गया था।

शुक्रवार रात करीब आठ बजे मस्जिदों से जैसे ही चांद के दीदार होने एवं ईद शनिवार को मनाए जाने का ऐलान हुआ, उत्तराखंड में भी मुसलिम समुदाय के लोगों के चेहरों पर खुशी की लहर दौड़ गई। लोग एक-दूसरे से मिलकर एवं फोन पर मुबारक देने लगे। इससे पहले अलविदा जुम्मे पर सुबह से शाम तक मस्जिदों में रोजेदारों ने पांचों वक्त की नमाज पढ़ी।

eid-mubarak

हल्द्वानी में भी शहरभर की मस्जिदों में तकरीरें हुई। इधर, महिलाओं, बुजुर्ग, बच्चों एवं युवाओं में भी खरीदारी को लेकर जबरदस्त उत्साह रहा। लाइन नंबर एक एवं 17 में सजे विशेष बाजारों के अलावा लोगों ने शहर के मॉल व शोरूम से भी खूब खरीदारी की। शनिवार को ईदगाह मैदान में सुबह साढ़े नौ बजे व जामा मस्जिद में पौने दस बजे नमाज पढ़ी गई।

मुख्यमंत्री और राज्यपाल ने दी मुबारकबाद
राज्यपाल डॉ. कृष्णकात पॉल और मुख्यमंत्री हरीश रावत ने ‘ईद-उल-फितर’ के मौके पर राज्य के सभी नागरिकों को मुबारकबाद दी है।

eid

अपने संदेश में राज्यपाल डॉ. पॉल ने कहा कि ईद-उल-फितर के इस मुबारक अवसर पर राज्य के सभी नागरिकों, विशेषत: मुस्लिम समुदाय को हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं। उन्होंने कहा करुणा, त्याग, आपसी भाई-चारे तथा अमन-चैन के लिए सभी बुराइयों से दूर रहने की नसीहत देने वाला खुशियों का यह त्यौहार मानवीय मूल्यों के लिए समर्पण तथा सहनशीलता के प्रति हमारे विश्वास को मजबूत कर समाज में समरसता व परस्पर प्रेम की भावना को और अधिक सुदृढ़ करेगा।

मुख्यमंत्री हरीश रावत ने अपने संदेश में कहा कि रमजान के पवित्र महीने के अंत में आने वाला यह पर्व आपसी एकता, शातिपूर्ण सहअस्तित्व, प्रेम और करुणा का संदेश देता है। पूर्व मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा व कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष किशोर उपाध्याय ने भी उत्तराखंड वासियों को ईद-उल-फितर की मुबारकबाद दी है।