बुलेट ट्रेन की तैयारी : IIT रुड़की में जल्द ही होगी ‘रेल रिसर्च सेंटर’ की स्थापना

उत्तराखंड में स्थित प्रतिष्ठित संस्थान आईआईटी रुड़की में रेल मंत्रालय जल्दी ही ‘रेल रिसर्च सेंटर’ स्थापित करेगा।

आईआईटी रुड़की के निदेशक प्रदीप्त बनर्जी ने एक संवाददाता सम्मेलन में बताया कि प्रतिष्ठित संस्थान आधुनिक रेल की राह प्रशस्त करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने जा रहा है और ‘रेल रिसर्च सेंटर’ स्थापित किए जाने की दिशा में काम करना शुरू भी कर दिया गया है।

उन्होंने बताया कि जल्द ही रेल मंत्रालय और आईआईटी रुड़की के बीच इस संबंध में एक समझौते पर दस्तखत किए जायेंगे। बनर्जी ने बताया कि इस रिसर्च सेंटर में रेलगाडियों की रफ्तार बढाने के साथ ही इससे होने वाले शोर को कम करने की दिशा में भी शोध किया जाएगा।

रिसर्च सेंटर में जिन कार्यों पर ज्यादा प्राथमिकता दी जाएगी, उनमें कोच को ज्यादा टिकाऊ बनाना, कोच तथा इंजन के डिजाइन को बेहतर बनाना और मालगाडियों में माल की सुरक्षा के बेहतर प्रबंधन करना शामिल है।

उन्होंने कहा कि रिसर्च सेंटर में सिविल इंजीनियरिंग, मैकेनिकल, इलेक्ट्रानिक्स, कम्यूनिकेशन तथा कम्प्यूटर साइंस के विशेषज्ञ शामिल किए जाएंगे जो यह भी तय करेंगे कि रेलवे ट्रेक बिछाने के लिये भूमि को सुरक्षित कैसे बनाया जाए।

निदेशक ने कहा कि रिसर्च सेंटर का प्रयास होगा कि वर्तमान संसाधनों में ही बेहतर सुविधाएं और तकनीक विकसित की जा सके।

गौरतलब है कि रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने इस साल पेश रेल बजट में देश की तीन आईआईटी संस्थानों में ‘रेल रिसर्च सेंटर’ खोलने की घोषणा की थी जिसके तहत रुड़की के अलावा चेन्नई और कानपुर का भी चयन किया गया है।