डॉक्टरों का कमाल, गाय के दिल से बनाया वॉल्व और जी उठी महिला

हमारे यहां गाय को पूज्यनीय माना जाता है, मां कहा जाता है। गाय के हर चीज को पवित्र माना गया है। अब हमारी मान्यताओं को चरितार्थ करते हुए एक नया मामला सामने आया है। दरअसल गाय के हृदय से बने वॉल्व से 81 साल की एक बुजुर्ग महिला को जीवनदान मिला है।

यह कारनामा चेन्नई ‌स्थित फ्रंटियर लाइफलाइन अस्पताल के डॉक्टरों ने कर दिखाया है। डॉक्टरों ने हैदराबाद की 81 वर्षीय महिला को गाय के हृदय से बने वॉल्व से बदल दिया है। बुजुर्ग महिला को एओर्टिक वाल्व सिकुड़ने की बीमारी थी।

अस्पताल के डॉक्टर केएम चेरियन ने बताया कि इस तरह ‌की पहल एओर्टिक वॉल्व स्टेनाइसेस से ग्रसित मरीजों के लिए की जाने वाली जटिल ओपन हर्ट सर्जरी से अच्छा विकल्प है।

आमतौर पर ओपन हर्ट सर्जरी में खराब वॉल्व की जगह नया वॉल्व लगा दिया जाता है। लेकिन इस केस में ऐसा कर पाना संभव नहीं था। इसलिए डॉक्टरों ने इस मरीज के लिए गाय के दिल से बने वॉल्व को इस्तेमाल करना बेहतर समझा।

cow1

ये बायो प्रोस्‍थेटिक वॉल्व गाय के ‌दिल के टिश्यू से तैयार किया गया है। डॉक्टरों की टीम ने ऑपरेशन करने में तीन घंटे का समय लिया और सर्जरी के बाद अब मरीज की हालत ठीक है।