उत्तराखंड में ऑर्गन बैंक खोलने की तैयारी, कर सकेंगे अंग प्रत्यारोपण

प्रदेश के लोगों को अब अपने अंगों के प्रत्यारोपण के लिए निजी अस्पतालों के चक्कर नहीं काटने पड़ेंगे। स्वास्थ्य विभाग आई बैंक के साथ ऑर्गन बैंकों को खोलने की तैयारी कर रहा है। इसके लिए चिकित्सकों की एक टीम को दिल्ली भेजा गया है, जहां पर चिकित्सकों ने स्वास्थ्य अधिकारियों के साथ एक विस्तत प्लान तैयार किया है।

सूबे के डीजी हेल्थ डॉ. आरपी भट्ट के मुताबिक, प्रदेश में लीवर और किडनी जैसे अंगों के अलावा ऑर्गन बैंक खोलने के योजना बनाई जा रही है। डीजी भट्ट ने कहा कि अभी प्रदेश में निजी क्षेत्रों में आई बैंक ही सेवाएं दे रहे हैं। ऐसे में स्वास्थ्य विभाग प्रदेश के कई अस्पतालों में आई बैंक खोलने की तैयार कर रहा है, जिससे मरीजों को किडनी और लीवर जैसे अंगों के ट्रांसप्लांट के लिए भटकना न पड़े।

उन्होंने कहा कि अभी प्रदेश में इस तरह के अंगों के ट्रांसप्लांट की कोई सुविधा नहीं है, इसलिए स्वास्थ्य विभाग एक मेगा प्लान तैयार कर रहा है। प्रदेश में एम्स हॉस्पिटल की भी स्थापना हो चुकी है। ऐसे में प्रदेश में मरीजों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए अधिकारियों को गंभीरता से काम करना होगा।

निदेशक ने बताया कि प्रदेश में करीब 70 फीसदी मरीज निजी अस्पतालों में अपना इलाज कराते हैं। आर्थिक रूप से कमजोर मरीजों को इलाज के लिए इधर-उधर भटकना पड़ता है तो ऐसे में सरकारी अस्पतालों की स्थिति को सुधारने की जरूरत है। सरकार ने जल्द-से-जल्द ऑर्गन बैंक की स्थापना करने का फैसला किया है।