भारी बारिश से उत्तराखंड में जन-जीवन पटरी से उतरा, केदारनाथ यात्रा रोकी गई

देहरादून।… उत्तराखंड में लगातार हो रही बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त है और पूरी तरह से पटरी से उतर गया है। तराई के इलाकों में जलभराव की समस्या बनी हुई है, तो पर्वतीय क्षेत्रों में हाईवे विभिन्न स्थानों पर ध्वस्त हैं।

सुरक्षा के लिहाज से केदारनाथ दर्शन करने जा रहे यात्रियों को सोनप्रयाग में रोका गया है, जबकि बद्रीनाथ, गंगोत्री, यमुनोत्री और हेमकुंड यात्रा अब भी जारी है। पिछले दो दिन से लगातार हो रही बारिश से यहां के नदी-नाले उफान पर हैं।

गंगा समेत तमाम नदियां खतरे के निशान के करीब बह रही हैं। इसे देखते हुए तटीय इलाकों पर अलर्ट जारी किया गया है। इसके अलावा विभिन्न स्थानों पर भूस्खलन, जलभराव के कारण लोग दिनभर ही परेशान रहे। चारधाम यात्र मार्गों पर सर्वाधिक दिक्कत आ रही, जिसका असर यात्रा पर भी पड़ा।

बद्रीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री राजमार्ग सुबह से जगह-जगह बाधित और खुलते रहे। सुरक्षा की दृष्टि से प्रशासन केदारनाथ दर्शन करने जा रहे यात्रियों को सोनप्रयाग में रोका हुआ है। वहीं, केदारनाथ, लिनचोली, गौरीकुंड और भीमबली में फंसे 99 यात्रियों को हेलिकॉप्टर की मदद से निकालने के प्रयास जारी हैं।

ऋषिकेश के चीला में अब भी विद्युत उत्पादन ठप है। उधर, कुमाऊं में जमकर बारिश हो रही है। मौसम विभाग का पूर्वानुमान है कि आज भी राज्य में बारिश का सिलसिला बना रहेगा।