एक ही परिवार के पांच लोग मलबे में दबकर मरे, 21.10 लाख का मुआवजा

बुधवार रात पौड़ी के चौबट्टाखाल तहसील में एकेश्वर ब्लॉक के मैड़ा गांव में बारिश से दोमंजिला मकान ढहने से एक ही परिवार के पांच लोग मलबे में जिंदा दफन हो गए। मृतकों में चार बच्चे भी थे। एसडीएम ने पीड़ित परिवार को मुआवजे के रूप में 21.10 लाख रुपये का चेक सौंपा एसडीएम है।

सभी मृतकों का गुरुवार दोपहर को अंतिम संस्कार कर दिया गया। उस हादसे में एक महिला (चारों बच्चों की मां) घायल हो गईं। एसडीएम पीएल शाह ने बताया कि पीड़ित परिवार को मुआवजे के रूप में 21.10 लाख रुपये का चेक सौंपा गया है।

घायल महिला को प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र नौगांवखाल से फर्स्ट एड के बाद छुट्टी दे दी गई। घटना में अपने पति और चारों बच्चों को गवां चुकी महिला गहरे सदमे में है। एकेश्वर ब्लाक के मैणा गांव निवासी रणवीर लाल पुत्र विक्रम लाल का परिवार बुधवार की रात खाना खाने के बाद सो गया था। इस दौरान हुई तेज बारिश से रात को करीब 11 बजे रणवीर लाल का पुराना दोमंजिला मकान ढह गया।

मकान के अंदर सोए 38 वर्षीय रणवीर लाल पुत्र विक्रम लाल, 34 वर्षीय ऊषा देवी पत्नी रणवीर लाल, ज्योति (11), ऋतु (09), राधा (05) और रोशन (07) पुत्र रणवीर लाल मकान के मलबे में दब गए।

मकान ढहने से हुई आवाज से पड़ोस में रह रहे रणवीर लाल के वृद्ध माता-पिता और ग्रामीण मौके पर पहुंचे। उन्होंने बमुश्किल मलबे के नीचे दबे लोगों को बाहर निकाला। मलबे के नीचे दबने से पांचों की मौत हो गई, जबकि ऊषा देवी की सांसें चल रही थीं।

उन्हें 108 आपातकालीन एंबुलेंस से प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र नौगांवखाल ले जाया गया। प्राथमिक उपचार के बाद ऊषा देवी को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई।

खबर मिलने पर रात में ही राजस्व उप निरीक्षक विजय चौहान, नायब तहसीलदार आशीष घिल्डियाल भी मौके पर पहुंचे। एसडीएम पीएल शाह ने बताया कि पीड़ित परिवार को मुआवजे के रूप में 21.10 लाख रुपये का चेक सौंपा गया है। जिलाधिकारी चंद्रशेखर भट्ट और पुलिस अधीक्षक अजय जोशी ने भी मैणा गांव में जाकर पीड़ित परिवार को सांत्वना दी। कहा कि पीड़ित परिवार की हर संभव सहायता की जाएगी।