क्या उत्तराखंड का इलाज कर पाएंगे केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा?

उत्तराखंड में स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर बनाने के लिए स्वास्थ्य मंत्री सुरेंद्र सिंह नेगी ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा से मुलाकात ने की। नेगी ने केंद्रीय मंत्री से स्वास्थ्य उपकेंद्रों के लिए निर्धारित मानकों में बदलाव की बात कही है।

उन्होंने कहा कि तीन हजार की जनसंख्या पर एक स्वास्थ्य उपकेंद्र की जगह राज्या सरकार 1500 की जनसंख्या पर उपकेंद्र चाहती है। स्वास्थ्य मंत्री नेगी ने केंद्र से आशाओं के मानदेय में वृद्धि का प्रस्ताव भी रखा है।

राज्य के दौरे पर आए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री नड्डा से स्वास्थ्य मंत्री ने प्रदेश की भौगोलिक परिस्थितियों को देखते हुए 1848 स्वास्थ्य उपकेंद्रों की संख्या दोगुनी करने की बात कही। उन्होंने दूरस्थ क्षेत्रों में विशेषज्ञ डॉक्टरों की भारी कमी का हवाला देते हुए केंद्रीय मंत्री से राज्य को वार्षिक 100 विशेषज्ञ चिकित्सा सर्जिकल कैंप के लिए धनराशि दिए जाने की मांग की।

उन्होंने मल्टी पर्पज हेल्थ वर्कर के खत्म किए प्रावधान को दोबारा शुरू करने का भी आग्रह किया। 108 आपात सेवा को मंत्री अंतरराज्यीय करना चाहते हैं, जिसके लिए केंद्र से फंड की जरूरत पड़ेगी।

राज्य की एकमात्र राज्य खाद्य प्रयोगशाला रुद्रपुर को अपग्रेड करने के साथ गढ़वाल मंडल में एक नई प्रयोगशाला खोलने के लिए भी केंद्रीय मंत्री से वित्तीय मदद मांगी है।

उन्होंने राज्य में दून चिकित्सालय सहित अन्य अस्पतालों में 13 एमबीबीएस डॉक्टरों की इंटर्नशिप के प्रावधान को बढ़ाकर कर दो सौ करने की मांग केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री से की है, जिस पर उन्होंने केंद्र के सकारात्मक रुख का आश्वासन दिया।