तहसीलदारों के ‘अच्छे दिन’ जल्द, रुड़की में 3.5 करोड़ की लागत से बनेंगे स्थायी आवास

तहसीलदार आवास के जल्द ही अच्छे दिन आने वाले है। तकरीबन 3.5 करोड़ की लागत से इस परिसर में आवासीय कॉलोनी बनाई जाएगी। इसमें तहसीलदार सहित अन्य अधिकारियों और कर्मचारियों के रहने के लिए स्थाई आवास बनेंगे। ये बीते पांच साल से खंडहर में परिवर्तित हो चुके हैं।

इस मामले में रुड़की के तहसीलदार ने हरिद्वार जिलाधिकारी से आवासीय कॉलोनी बनाने के लिए बजट जारी करने की मांग की है। दरअसल, रुड़की रोडवेज बस स्टैंड के पास हाइवे पर पिछले पांच साल से तहसीलदार का सरकारी आवास खंडहर एवं जर्जर हालत में पड़ा है।

2010 में तहसीलदार रहे शाहिद हुसैन के बाद कोई भी अधिकारी यहां पर नहीं रुका है। उस वक्त से लेकर अब तक जितने भी तहसीलदार रुड़की आए सभी अस्थाई तरीके से इधर-उधर रहे। इतना ही नहीं कई तहसीलदारों ने अपना कार्यकाल किराए के मकानों में पूरा किया। इसके अलावा किसी भी अपर उपजिलाधिकारी, अपर तहसीलदार और मंगलौर एवं रुड़की के नायब तहसीलदार के लिए कोई भी स्थाई आवास नहीं है, लेकिन अब सब कुछ ठीक रहा तो आने वाले दिनों में आवास का संकट दूर हो जाएगा।

इस जर्जर भवन को तोड़कर यहां पर लगभग साढ़े तीन करोड़ की लागत से कई आवास बनाए जाएंगे। जो अधिकारी पिछले पांच साल से आवासों को लेकर परेशानी झेल रहे हैं, उनकी यह समस्या आने वाले दिनों में दूर हो जाएगी।