हल्द्वानी : एक और मासूम से रेप, आरोपी मामा-भांजे गिरफ्तार, एक अब भी फरार

उत्तराखंड में नैनाताल जिले के हल्‍द्वानी शहर में मासूम बच्ची की रेप के बाद हत्या का मामला अभी ठीक से शांत भी नहीं हुआ था कि रविवार को दरिंदों ने एक और मासूम को हवस का शिकार बना दिया।

शहर के कालाढूंगी रोड पर शनिवार सुबह स्कूल जा रही कक्षा चार की मासूम को बाइक सवार मामा-भांजे सहित तीन दरिंदों ने अगवा कर ट्रक में उसके हाथ-पैर बांध दिए। इसके बाद दो आरोपियों ने बच्ची के साथ गैंगरेप किया और एक ट्रक के बाहर आने-जाने वालों पर नजर रख रहा था। रेप के बाद आरोपी फरार हो गए। बच्ची की चीख सुनकर परिजनों ने उसे बंधन से मुक्त किया। पुलिस ने आरोपी मामा-भांजे को तो हिरासत में ले लिया, लेकिन तीसरा आरोपी अब भी फरार है।

मूलरूप से बिहार निवासी यह मासूम कालाढूंगी रोड में अपने माता-पिता के साथ रहती है। शनिवार सुबह करीब आठ बजे मासूम पैदल स्कूल जा रही थी कि उसे बाइक सवार नीरज बिष्ट, कुसुमखेड़ा रोड निवासी ओम राज और सचिन ने अगवा कर लिया।

मासूम को घुमाने के बाद वे कालाढूंगी रोड पर ही ले आए। बताया जाता है कि वे छात्रा को खड़े ट्रक में ले गए और उसके हाथ पैर-बांध दिए। छात्रा का आरोप है कि ओमराज और सचिन ने उसके साथ रेप किया, जबकि नीरज बाहर से आने-जाने वालों पर नजर रखे हुए था।

गैंगरेप के बाद तीनों भाग गए। जाते समय वे किसी को कुछ भी बताने पर छात्रा को जान से मारने की धमकी भी दे गए। इधर, दोपहर तक बेटी के घर नहीं लौटने पर माता-पिता परेशान हो गए। उन्होंने बेटी की तलाश की तो उन्हें वह ट्रक में बदहवाश हालत में मिली।

उन्होंने बेटी को बंधनमुक्त किया। बेटी से आपबीती सुनने के बाद पिता ने मुखानी थानाध्यक्ष संजय पांडेय को घटना की खबर दी। पुलिस ने मौका-ए-वारदात का मुआयना कर मासूम का मेडिकल करवाया।

पुलिस ने धारा 376(जी) 5/6 पॉक्सो एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज कर कुसुमखेड़ा रोड पर रहने वाले मामा सचिन और भांजे ओमराज को हिरासत में ले लिया है जबकि तीसरा आरोपी मूलरूप से लालकुआं निवासी नीरज बिष्ट घटना के बाद से परिवार सहित फरार है।