उत्तराखंड कांग्रेस अध्यक्ष ने राज्य में ‘शांति के लिए बोनस’ में मांगा ये सब कुछ…

उत्तराखंड कांग्रेस ने रविवार को केंद्र से राज्य को ‘शांति बोनस’ दिये जाने, लोकसभा क्षेत्रों की संख्या बढाकर 11 किये जाने, भौगोलिक विषमता को आधार मानकर विधानसभा सीटों की संख्या बढाकर 101 किये जाने तथा प्रदेश में विकासखंडों की संख्या और ज्यादा करने की मांग की।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष किशोर उपाध्याय ने यहां एक पत्रकार वार्ता में कहा कि इस संबंध में मुख्यमंत्री हरीश रावत, विधानसभा अध्यक्ष गोविन्द सिंह कुंजवाल, पांचों लोकसभा सांसदों, तीनों राज्यसभा सांसदों तथा सभी विधायकों को पत्र लिखकर राज्य हित के इन चारों बिन्दुओं पर विधानसभा में एक सर्वसम्मत प्रस्ताव पारित करने और उसे केंद्र को भेजने की मांग की है।

उपाध्याय ने कहा कि पत्र के माध्यम से अपने विचार रखते हुए उन्होंने कहा है कि उत्तराखंड को राज्य में शान्ति एवं सुरक्षा का वातावरण बनाये रखने के लिए केन्द्र ‘शांति के लिए बोनस’ दे तथा प्रदेश की भौगोलिक विषमता को परिसीमन का आधार मानते हुए राज्य में विधानसभा क्षेत्रों की संख्या 70 से बढ़ाकर 101 की जाये। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि इसके अलावा उन्होंने राज्य में लोकसभा क्षेत्रों की संख्या पांच से बढ़ाकर 11 करने तथा प्रदेश के विकासखण्डों का नये सिरे से परिसीमन करते हुए उनकी संख्या भी बढाये जाने की मांग की है।

उन्होंने आरोप लगाया कि वर्ष 2000 में अस्तित्व में आये उत्तराखंड की विशेषताओं पर उस समय ध्यान नहीं दिया गया और भाजपा ने राज्य को कई तरह की समस्याओं के भंवर में डाल दिया, जिन चुनौतियों का समाधान आज भी ढूंढा जा रहा है।

उपाध्याय ने कहा कि राज्य की स्थायी राजधानी, राज्य की परिसम्पतियों पर उत्तर प्रदेश का अधिकार, सीमाओं का सीमांकन, रिण अदायगी तथा सरकारी कर्मचारियों का बंटवारा जैसे महत्वपूर्ण मसले अब तक हल नहीं हो पाये और हर जगह उत्तराखण्ड के साथ सौतेला व्यवहार किया गया।