मां श्री पूर्णागिरि धाम में रोपवे निर्माण कार्य का शुभारम्भ

मुख्यमंत्री हरीश रावत ने सोमवार को मां श्री पूर्णागिरि धाम में रोपवे निर्माण कार्य समेत 79.75 करोड़ की लागत की 14 विकास योजनाओं का शिलान्यास किया। उन्होंने कहा कि रोपवे के निर्माण से पूर्णागिरि में तीर्थाटन बढ़ेगा। सरकार चंपावत जिले के सभी प्रसिद्ध मंदिरों और पर्यटन स्थलों को जोड़कर सर्किट के रूप में विकसित करेगी।

[manual_related_posts]

पूर्णागिरि के ठुलीगाड़ में पर्यटन मंत्री दिनेश धनै की मौजूदगी में हुए रोपवे शिलान्यास कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने कहा कि पूूूर्णागिरि धाम को पूरे भारत में अलग पहचान देने के लिए सरकार धाम में सुविधाओं का विस्तार कर व्यापक प्रचार-प्रसार करेगी। निर्माणाधीन श्यामलाताल-पोथ मोटर मार्ग को पूर्णागिरि से जोड़ा जाएगा। इसके लिए जिला पंचायत को एक करोड़ और खर्राटाक स्थित जिम कार्बेट स्थल को विकसित करने के लिए पांच लाख रुपये देने की घोषणा की है।

उन्होंने कहा कि टनकपुर में निर्मित नंधौर अभ्यारण्य पर्यटक गेट से आगे के क्षेेत्र को तीन-चार सालों में कार्बेट पार्क की तर्ज पर विकसित किया जाएगा। शारदा में साहसिक पर्यटन के विकास के लिए उन्होंने पर्यटन मंत्री से पूरे देश में क्षेत्रीय भाषा में प्रचार करने को कहा। मुख्यमंत्री ने कहा कि स्थानीय लोगों से साहसिक पर्यटन से जुड़ने और उसे रोजगार का आधार बनाने का आह्वान किया। पर्यटन मंत्री धनै ने कहा कि पूर्णागिरि धाम में रोपवे लगने से यहां के विकास में नई क्रांति आएगी। यहां लग रहा रोपवे नई तकनीक का है, जिसमें सुरक्षा के मजबूत इंतजाम है।
उन्होंने वाणिज्य कर कार्यालय के नवनिर्मित भवन, नंधौर अभ्यारण्य के पर्यटक प्रवेश गेट, संयुक्त चिकित्सालय में निर्मित डेडीकेटेड आईओटी भवन, फागपुर पेयजल योजना, कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालय के नवनिर्मित छात्रावास भवन का लोकार्पण भी किया।