सफाई कर्मचारियों की हड़ताल खत्म, ऑपरेशन क्लीन दिल्ली शुरू

पिछले दो महीने से सैलरी ना मिलने के चलते हड़ताल कर रहे पूर्वी दिल्‍ली नगर निगम के कर्मचारियों ने शुक्रवार को हड़ताल वापस ले ली। इसी के साथ सफाई कर्मचारियों ने वादा किया कि पूर्वी दिल्ली में फैली तमाम गंदगी को वे दो दिन में साफ कर देंगे। हड़ताल खत्म होते ही शनिवार सुबह कर्मचारी अपने-अपने काम पर लौट आए।

पूर्वी दिल्ली में सफाई कर्मियों की हड़ताल के चलते जगह-जगह पर कूड़े के ढेर लग गए। हालात इतने बदतर हो गए कि कूड़े की वजह से लोगों का कहीं भी निकलना दूभर हो गया था। इस बीच अगर कहीं बरसात हो जाती तो कूड़े से मिथेन जैसी ख़तरनाक गैस के लीक होने का भी ख़तरा मंडरा रहा था।

delhi-dirty6 दिल्ली के उपराज्यपाल नजीब जंग ने शुक्रवार को राजधानी के नगरनिगमों को 493 करोड़ रुपये देने का आदेश जारी किया। इस धनराशि का इस्तेमाल सफाई कर्मियों के पिछले दो महीने की सैलरी के भुगतान के लिए किया जाएगा।

delhi-dirty5

पूर्वी दिल्ली नगर निगम के सफाई कर्मचारी वेतन का भुगतान नहीं होने के कारण पिछले 10 दिन से काम पर नहीं आ रहे थे। इस हड़ताल के कारण पूर्वी दिल्ली के विभिन्न इलाकों में कूड़े-कचरे का अंबार लग गया था।

delhi-dirty4

उपराज्यपाल द्वारा दी गई मंजूरी के तहत उत्तरी दिल्ली नगर निगम को 326 करोड़ रुपये और शेष राशि पूर्वी दिल्ली नगर निगम को मिलेगी। हालांकि उत्तरी दिल्ली के मेयर रवींद्र गुप्ता ने कहा कि 326 करोड़ रुपये की राशि कर्मचारियों का मई, 2015 तक का वेतन देने के लिए पर्याप्त नहीं है।

delhi-dirty3

गुप्ता के साथ ही दक्षिणी दिल्ली के मेयर सुभाष आर्य और पूर्वी दिल्ली नगर निगम में सदन के नेता राम नारायण दूबे ने शुक्रवार को इस मुद्दे पर उपराज्यपाल नजीब जंग से मुलाकात की।

delhi-dirty2

इस बीच बीजेपी शासित नगर निगमों पर हमला करते हुए आम आदमी पार्टी ने शुक्रवार उन्हें ‘दुनिया में सबसे ज्यादा भ्रष्ट’ करार दिया। इसके साथ पार्टी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर राष्ट्रीय राजधानी को ‘छोड़ देने’ का आरोप लगाया, जबकि यह सफाई की गंभीर समस्या का सामना कर रहा है।

delhi-dirty1

आप नेता दिलीप पांडे ने आरोप लगाया कि बीजेपी ने दिल्ली को ‘डस्टबिन’ में बदल दिया है। उन्होंने नगर निगम में कथित तौर पर ‘22 हजार फर्जी कर्मचारी’ होने संबंधी रैकेट की जांच कराए जाने की मांग की। पांडे ने कहा, ‘प्रधानमंत्री के पास मंगोलिया के लिए करोड़ों रुपये हैं, लेकिन ऐसा लगता है कि उनके पास मंगोलपुरी के एमसीडी सफाई कर्मचारियों के लिए पैसे नहीं हैं।’