हेमकुंड साहिब में भारी बर्फबारी, तापमान शून्य पहुंचा, 6500 यात्री फंसे

हेमकुंड साहिब में मंगलवार को भारी बर्फबारी हुई, बर्फबारी के कारण इस धाम के दर्शन के लिए जा रहे करीब 6500 तीर्थयात्रियों को रास्ते में ही रोक लिया गया है। गुरुद्वारा प्रबंधन कमेटी गोविंदघाट का कहना है कि बुधवार को मौसम साफ होने पर ही इन तीर्थयात्रियों को आगे बढ़ने की अनुमति दी जाएगी।

बर्फबारी शुरू होने से पहले करीब 800 तीर्थयात्रियों ने हेमकुंड साहिब के दर्शन किए। धाम में इन दिनों कड़ाके की ठंड पड़ रही है। तापमान शून्य डिग्री सेल्सियस पर पहुंच गया है।

गुरुद्वारा प्रबंधन कमेटी ने गोविंदघाट और घांघरिया में लाउडस्पीकर लगाकर तीर्थयात्रियों से गर्म कपड़े पहनने, स्नो सूज साथ लाने और सर्दी-जुकाम, सीने में दर्द, सिर दर्द की दवाइयां साथ लाने की अपील की है।

मंगलवार तड़के हेमकुंड साहिब में आंशिक बर्फबारी होने के बाद सुबह आठ बजे से 11 बजे तक बर्फबारी थमी रही। इसके बाद 11 बजे से शाम चार बजे तक यहां जमकर बर्फबारी हुई और यात्रा भी प्रभावित हो गई। गुरुद्वारा प्रबंधन कमेटी गोविंदघाट ने हेमकुंड साहिब की यात्रा पर जा रहे करीब 6500 तीर्थयात्रियों को गोविंदघाट और घांघरिया में ही रोक लिया।

शाम चार बजे बाद बर्फबारी बंद होने पर आंशिक रूप से आसमान भी साफ हुआ। गुरुद्वारा प्रबंधन कमेटी के वरिष्ठ प्रबंधक सरदार सेवा सिंह ने बताया कि 3000 तीर्थयात्रियों को गोविंदघाट और करीब 3500 को घांघरिया में रोक लिया गया है। हेमकुंड साहिब में बर्फबारी हुई, लेकिन स्थिति सामान्य है।

घांघरिया से हेमकुंड साहिब मार्ग भी अभी सुचारु है। तीर्थयात्रियों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए उन्हें सुरक्षित पड़ावों में रोक लिया गया है। बुधवार को मौसम साफ हुआ तो एक बार फिर यात्रा संचालित कर दी जाएगी।