चंपावत शहर में तीसरे दिन पहुंचे सिलेंडर, बहुतों को मिले, फिर भी कई निराश

जिला मुख्यालय चंपावत में तीसरे दिन रसोई गैस की गाड़ी आई, लेकिन सिलेंडर खत्म होने से घंटों लाइन में लगे करीब 45 लोगों को मायूस होकर लौटने को मजबूर होना पड़ा। गुरुवार को करीब 180 लोगों को गैस एजेंसी से सिलेंडर दिए गए। इसके अलावा जीप के जरिए गांवों में भी सिलेंडर भेजे गए।

[manual_related_posts]

शहर में मंगलवार के बाद गुरुवार को रसोई गैस सिलेंडर की आमद हुई। ढेरों स्थानीय लोग सुबह सात बजे से गैस एजेंसी में लाइन में लगे हुए थे। यहां 180 लोगों को सिलेंडर मिले, लेकिन लाइन में लगे ढेरों लोगों को सिलेंडर नहीं मिलने से निराश होना पड़ा।

उपभोक्ताओं ने लाइन में लगे लोगों को छोड़कर गांवों में सिलेंडर भेजने पर भी ऐतराज जताया। गैस वितरण केंद्र मैनेजमेंट का कहना है कि रोस्टर के चलते गांवों में सिलेंडर भेजे गए हैं। अभी चंपावत केंद्र में करीब 600 सिलेंडरों का बैकलॉग है।