मुख्यमंत्री ने लिया हेमकुंड साहिब यात्रा की तैयारियों का जायजा, कहा यात्रियों को पहाड़ी खाना परोसें

आगामी एक जून से शुरू हो रही गढ़वाल हिमालय की ऊंची पहाडियों पर स्थित हेमकुंड साहिब यात्रा की तैयारियों का जायजा लेने के लिए मुख्यमंत्री चमोली जिले के गोविंदघाट और घांघरिया पहुंचे। मुख्यमंत्री ने सोनवार को व्यवस्थाओं पर संतुष्टि जाहिर करते हुए कहा कि गुरुद्वारे में श्रद्घालुओं के लिए पहाड़ी व्यंजनों की व्यवस्था के प्रयास किए जाने चाहिए।

देहरादून में जारी एक सरकारी विज्ञप्ति के अनुसार, हेमकुंड साहिब यात्रा की व्यवस्थाओं का जायजा लेने के दौरान मुख्यमंत्री रावत ने अधिकारियों के साथ बैठक भी की। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि गुरुद्वारे में श्रद्घालुओं को पहाड़ी व्यंजन उपलब्ध कराए जाने के प्रयास किए जाने चाहिए।

बैठक में जानकारी दी गई कि गुरुद्वारे से पुलना गांव तक मोटर मार्ग का कार्य पूर्ण कर लिया गया है साथ ही बर्फ साफ करने का कार्य भी अंतिम दौर में है। समुद्र तल से लगभग 16 हजार फुट की ऊंचाई पर स्थित हेमकुंड साहिब पहुंचने के लिए 18 किलोमीटर का पैदल रास्ता तय करना पड़ता है।