केदारनाथ त्रासदी के पीछे के इस रहस्य को आप नहीं जानते होंगे

ज्योतिष पीठ बद्रीकाश्रम के शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती का कहना है कि साल 2013 की केदारनाथ आपदा चीन की हरकत थी।

चीन ने वैज्ञानिक तरीके से आकाश में क्लाउड बनाकर केदारनाथ त्रासदी को जन्म दिया। देश को असली मुद्दे को समझकर चीन से सचेत रहना चाहिए। शंकराचार्य रविवार को हरिद्वार में पत्रकारों से मुखातिब थे। उन्होंने कहा कि देश का संत समाज धर्म की रक्षा के साथ ही देश की सुरक्षा को लेकर भी चिंतित है।

उत्तराखंड में घटित हो रही आपदाओं के सवाल पर उन्होंने कहा कि सरकार को केदारनाथ त्रासदी के वैज्ञानिक पहलुओं की जांच करनी चाहिए। उनके पास मौजूद प्रमाणों के अनुसार इस त्रासदी में चीन का हाथ होने से इंकार नहीं किया जा सकता।

वैज्ञानिक तकनीक से हमें भी सक्षम बनना पड़ेगा। शंकराचार्य ने कहा कि वे शरीर त्यागने तक ज्योतिष पीठ और द्वारिका पीठ के शंकराचार्य का जिम्मा संभालेंगे।

Shankaracharya_swaroopanand

ज्योतिष पीठ के शंकराचार्य का होने का दावा कर रहे दोनों अन्य संत गृहस्थ में हैं, इसलिए वे महंत से आगे कुछ नहीं हैं। बद्रीनाथ धाम की पूजा पद्वति पर उन्होंने कहा कि पूर्व में शंकराचार्य बद्रीनाथ की पूजा का जिम्मा संभालते थे।

24 शंकराचार्यों ने धाम की पूजा की। लेकिन कुछ धर्मावलंबियों ने पूजा पद्वति में बदलाव कर रावल प्रथा को स्थापित किया। गौरतलब है कि धाम में 165 साल से रावल बद्रीनाथ की पूजा का जिम्मा संभाले हुए हैं।