देहरादून।… उत्तराखंड के मुख्यमंत्री हरीश रावत ने आगामी दो सालों में राज्य के दो जिलों- ‘बागेश्वर और चमोली’ को निर्मल जिला बनाने की घोषणा करते हुए कहा कि वहां के सभी ग्रामीण और नगरीय क्षेत्रों में शत प्रतिशत शौचालय का निर्माण किए जाने के लिए वर्षवार लक्ष्य के अतिरिक्त आठ करोड़ रुपये उपलब्ध कराए जाएंगे।

देहरादून में जारी एक सरकारी विज्ञप्ति के अनुसार, मुख्यमंत्री रावत ने कहा कि दोनों जिलों में ‘निर्मल भारत मिशन’ के तहत सघन अभियान संचालित कर सभी ग्रामीण और नगरीय क्षेत्रों में शत प्रतिशत शौचालयों का निर्माण किया जाएगा। इसके लिए राज्य सरकार वर्षवार निर्धारित लक्ष्यों के अतिरिक्त बनने वाले शौचालयों के निर्माण के लिए आठ करोड़ रुपये उपलब्ध कराएगी।

वीडियो क्रांफेंसिंग के जरिए गुरुवार शाम संबंधित जिलों तथा वरिष्ठ अधिकारियों के साथ ‘स्वच्छ भारत मिशन’ की समीक्षा करते हुए रावत ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में बनने वाले शौचालयों के लिए 12 हजार रुपये तथा शहरी क्षेत्रों के लिये आठ हजार रुपये दिये जाएंगे।

उन्होंने कहा कि जिन परिवारों को शौचालय निर्माण के लिए पहले 500 रुपये दिये जा चुके हैं, उन्हें भी शेष धनराशि आगामी तीन वर्षों में उपलब्ध करा दी जाएगी। इसके लिए आवश्यक धनराशि की व्यवस्था राज्य सरकार करेगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि अगले दो सालों में चमोली और बागेश्वर को स्वच्छ भारत मिशन के तहत निर्मल जिला बनाए जाने के लक्ष्य की प्राप्ति के लिए उनके जिलाधिकारी संबंधित विभागीय अधिकारियों के साथ संपर्क में रहें और इसे पूरा करने की जिम्मेदारी उनकी होगी।

बैठक में जानकारी दी गई कि प्रदेश में वर्तमान में केवल ग्रामीण क्षेत्रों में ही पांच लाख परिवार शौचालय विहीन हैं। इनमें से बागेश्वर जिले में 13,526 तथा चमोली जिले में 18,960 परिवार शौचालय विहीन हैं।