आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं की गलती से नहीं मिल रहा ‘नंदादेवी कन्या धन योजना’ का लाभ

अल्मोड़ा। उत्तराखंड सरकार लड़कियों के जन्म के लिए माता-पिता को प्रोत्साहन दे रही है। इसके लिए ‘नंदादेवी कन्या धन योजना’ चलाई जा रही है। इसके तहत मां और बेटी को 15 हजार रुपये दिए जाते हैं। बाल विकास विभाग द्वारा चलाई जा रही इस योजना के लाभार्थियों (मां-बेटी) के नाम से बैंक खाता होना जरूरी है।

राज्य सरकार ने एक जनवरी 2009 से जन्मी लड़कियों और मां के लिए 15 हजार की प्रोत्साहन राशि देने की योजना चलाई है। इसमें पांच हजार मां को दिए जाने हैं और शेष दस हजार रुपये बालिका के नाम से फिक्स डिपाजिट किए जाने हैं। यह धनराशि लाभार्थी बालिका को 18 साल की आयु पूरी होने पर मिलेगी। आंगनबाड़ी केंद्रों ने केवल मां के नाम से ही बैंक खाते खुलवा दिए, जबकि मां और बेटी के संयुक्त नाम से खाता खोला जाना चाहिए था।

मां और बेटी के संयुक्त खातों पर ही बैंकों द्वारा योजना का लाभ देने की बात की जा रही है। गलत जानकारी से बैंकों के साथ ही लाभार्थियों के समय की भी बरबादी हुई है। बैंक अधिकारियों के साथ हुई बैठक में लाभार्थी बालिका की माता का खाता खोलने पर सहमति जताई गई है और इसी के आधार पर आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को निर्देश दिए गए थे। अब बालिका और मां के नाम संयुक्त खाता खोलने की बात की जा रही है।