चमड़खान, ककलासौं के विकास के लिए एकजुट हुए लोग

चमड़खान। चमड़खान, सिलोर घाटी और ककलासौं क्षेत्र के संपूर्ण विकास के लिए स्थानीय जनप्रतिनिधियों और नागरिकों ने अब संघर्ष करने का मन बना लिया है। क्षेत्रीय संघर्ष समिति के बैनर तले हुई आम बैठक में नागरिकों के चेहरों पर पलायन, पिछड़ेपन का दंश साफ देखने को मिला। बैठक में तय हुआ कि क्षेत्र में अस्पताल, हैलीपैड बनवाने, क्षेत्र को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने की मांगों पर भी सहमति बनी।

समिति के अध्यक्ष नंदन सिंह नेगी की अध्यक्षता में हुई बैठक में वक्ताओं ने कहा कि जंगली सुअरों, बंदरों के आतंक के चलते खेतीबाड़ी पूरी तरह से चौपट हो गई है। रोजगार के संसाधन न होने के कारण युवाओं का निरंतर पलायन हो रहा है। बरसाती स्रोतों के आगे पीछे तीन चाल-खाल बनाने पर भी सहमति बनी।

chamadkhan1

बैठक में भारतीय स्टेट बैंक की शाखा खोलने की भी मांग उठी। बैठक में कहा गया कि अस्पताल, रेस्ट हाउस, हैलीपैड बनाने के लिए भी सरकार पर दबाव डाला जाएगा। अस्पताल के लिए थौली के ग्रामीण गिरीश चंद्र जोशी ने नि:शुल्क भूमि देने का भरोसा दिलाया है।

क्षेत्र में नसबंदी केंद्र खोलने, जीआईसी बंगोड़ा में एनसीसी, एनएसएस खोलने की मांग उठाई गई। तय हुआ कि इस बारे में मुख्यमंत्री को ज्ञापन सौंपा जाएगा। शीघ्र ही शिष्टमंडल मुख्यमंत्री से भी मुलाकात करेगा।

गूगल मैप पर देखें चमड़खान और आसपास के क्षेत्र…