सावधान! ये 21 फर्जी यूनिवर्सिटी छात्रों का भविष्य बनाती नहीं बिगाड़ती हैं

हर किसी की तरह आप भी पढ़ाई करके अपना भविष्य बनाना चाहते होंगे, लेकिन भविष्य बनाने की इस चाहत में कहीं आप ठगों के जाल में ना फंस जाएं। बता दें कि देशभर में 21 यूनिवर्सिटी फर्जी हैं। यूजीसी ने वेबसाइट पर इनकी सूची जारी की गई है और छात्रों को इनमें एडमिशन न लेने के लिए सचेत भी किया गया है।

यूजीसी ने साफ कर दिया है कि ऐसी यूनिवर्सिटी में दाखिला लेने वाले छात्रों की डिग्री मान्य नहीं होगी। लिहाजा, किसी भी नौकरी के लिए उसका उपयोग नहीं हो पाएगा। मतलब भविष्य बनाने की चाहत में आप ठगी का शिकार बन जाएंगे। रुपये तो बर्बाद होंगे ही, जिंदगी के गई साल भी बर्बाद हो जाएंगे। लिस्ट में देश के नौ राज्यों में चल रही फर्जी यूनिवर्सिटी के नाम दिए गए हैं। इनमें सबसे ज्यादा 9 यूनिवर्सिटी उत्तर प्रदेश में हैं।

  • मध्यप्रदेश : केसरवानी विद्यापीठ, जबलपुर
  • दिल्ली :
    • यूनाइटेड नेशंस यूनिवर्सिटी
    • कमर्शियल यूनिवर्सिटी लिमिटेड, दरियागंज
    • वोकेशन यूनिवर्सिटी
    • एडीआर-सेंट्रिक ज्यूरिडिकल यूनिवर्सिटी, एडीआर हाउस
    • इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस एंड इंजीनियरिंग
  • बिहार : मैथिली यूनिवर्सिटी, दरभंगा
  • कर्नाटक : बडागानवी सरकार वर्ल्ड ओपन यूनिवर्सिटी एजुकेशन सोसाइटी, बेलगाम
  • केरल : सेंट जॉन, कृष्णट्‌टम
  • तमिलनाडु : डीडीबी संस्कृत यूनिवर्सिटी, पुत्तुर, त्रिची
  • पश्चिम बंगाल : इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ अल्टरनेटिव मेडिसिन, कोलकाता
  • उत्तरप्रदेश :
    • वाराणसेय संस्कृत यूनिवर्सिटी, वाराणसी यूपी/ जगतपुरी, दिल्ली
    • महिला ग्राम विद्यापीठ/यूनिवर्सिटी, इलाहाबाद
    • गांधी हिंदी विद्यापीठ, इलाहाबाद
    • नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ इलेक्ट्रो कम्प्लेक्स होमियोपैथी, कानपुर
    • नेताजी सुभाषचंद्र बोस यूनिवर्सिटी (ओपन यूनिवर्सिटी), अचलताल, अलीगढ़
    • उप्र यूनिवर्सिटी, मथुरा
    • महाराणा प्रताप शिक्षा निकेतन यूनिवर्सिटी, प्रतापगढ़
    • इंद्रप्रस्थ शिक्षा परिषद, इंस्टीट्यूशनल एरिया, खोड़ा माकनपुर, नोएडा
    • गुरुकुल यूनिवर्सिटी, वृंदावन, मथुरा
  • महाराष्ट्र : राजा अरेबिक यूनिवर्सिटी, नागपुर